मुख्यपृष्ठनए समाचारमीरा-भायंदर में शुरू होगा ‘ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक'.... शहर में ही होगी अब...

मीरा-भायंदर में शुरू होगा ‘ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक’…. शहर में ही होगी अब गाड़ियों की पासिंग

विनोद मिश्र / भायंदर । मीरा-भायंदर शहर में शीघ्र ही ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक शुरू होगा, जिससे नागरिकों को गाड़ियों की पासिंग, लाइसेंस आदि के लिए अब ठाणे आरटीओ के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। मीरा-भायंदर शहर में स्थित आरटीओ उपकेंद्र के माध्यम से ही दोपहिया, तिपहिया और चारपहिया गाड़ियों के पासिंग की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक इसके लिए सतत प्रयत्नशील थे। हाल ही में राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब ने इस संदर्भ में प्रशासन को कार्यवाही करने के आदेश दिए हैं।
परिवहन आयुक्त ने मीरा-भायंदर मनपा से चर्चा कर बताया है कि अगर सप्ताह भर में मनपा जगह उपलब्ध करा देती है तो आगामी १ मई से शहर में ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक तैयार कर वाहनों की पासिंग शुरू कर दी जाएगी।
मीरा-भायंदर शहर की बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए विधायक प्रताप सरनाईक ने परिवहन मंत्री अनिल परब से मीरा-भायंदर शहर में ही आरटीओ के उपकेंद्र शुरू करने की मांग की थी। राज्य में ठाकरे सरकार आने के बाद पिछले वर्ष ही परिवहन मंत्री परब के हाथों मीरा-भायंदर शहर में आरटीओ उपकेंद्र का उद्घाटन किया गया था लेकिन जगह और स्टाफ की कमी के कारण दोपहिया, तिपहिया और चारपहिया वाहनों की पासिंग यहां से नहीं हो रही है। मीरा-भायंदर के नागरिकों के अनुरोध पर विधायक सरनाईक ने परिवहन मंत्री अनिल परब से बजट सत्र के दौरान इस संबंध में आरटीओ अधिकारियों के साथ बैठक बुलाने का अनुरोध किया था। उनके अनुरोध पर शुक्रवार को विधान भवन में बैठक की गई। इसमें मंत्री ने मीरा-भायंदर के टेस्टिंग ट्रैक पर चर्चा की और कार्रवाई के निर्देश दिए। इस दौरान परिवहन आयुक्त अविनाश ढाकणे ने मनपा आयुक्त दिलीप ढोले से भी जगह उपलब्ध कराने हेतु चर्चा की और आरटीओ उपकेंद्र के बगल में स्थित जेपी इंप्रâास्ट्रक्चर के पास स्थित ६० मीटर रोड का आधा हिस्सा ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक के लिए देने का अनुरोध कर इस आशय का पत्र भी उन्हें दिया।

मीरा-भायंदरवासियों को होगा लाभ
मीरा-भायंदर शहर में टेस्टिंग ट्रैक न होने से यहां के नागरिकों को शहर से दो घंटे की यात्रा कर ठाणे, ऐरोली, नांदिवली तक अपने वाहनों को लेकर पासिंग के लिए जाना पड़ता है। ऐसे में नागरिकों का समय, र्इंधन व पैसे का नुकसान होता है। मीरा-भायंदर शहर में ही टेस्टिंग ट्रैक की सुविधा उपलब्ध हो जाने पर नागरिकों को बहुत राहत मिलेगी।

अन्य समाचार