मुख्यपृष्ठनए समाचारमनोज जरांगे के आगे बेबस है ईडी सरकार!... छगन भुजबल का दावा

मनोज जरांगे के आगे बेबस है ईडी सरकार!… छगन भुजबल का दावा

सामना संवाददाता / मुंबई

मराठा आरक्षण कार्यकर्ता मनोज जरांगे पर तंज कसते हुए महाराष्ट्र के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल ने कल शुक्रवार को कहा कि उनकी मांगें बढ़ती जा रही हैं, और महाराष्ट्र सरकार बेबस है। भुजबल ने संवाददाताओं से बातचीत में चुटकी लेते हुए कहा कि वह उन सभी बातों को वापस ले रहे हैं, जो उन्होंने पहले कही थीं । भुजबल ने इसके पहले जरांगे की आलोचना की थी। अजीत पवार गुट के नेता ने कटाक्ष करते हुए कहा, ‘मैं भी जरांगे की सभी मांगों का समर्थन करता हूं। अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लोग कौन हैं, वे छोटे और गरीब लोग हैं।
उन्होंने कहा कि सरकार बेबस है। वरिष्ठ ओबीसी नेता और ‘महात्मा फुले समता परिषद’ के संस्थापक भुजबल ने लाभार्थियों को शिक्षा और सरकारी नौकरियों में आरक्षण का लाभ पाने में सक्षम बनाने के लिए ऐतिहासिक रिकॉर्ड के आधार पर मराठों को कुनबी (ओबीसी) प्रमाण पत्र जारी करने के एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार के पैâसले के विपरीत रुख अपनाया है। उनकी यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब एक दिन पहले ही राज्य के तीन मंत्रियों ने जालना जिले के अंतरवाली सराटी गांव में जरांगे से मुलाकात की थी और उनसे उनकी मांगों पर सरकार की प्रतिक्रिया के लिए अधिक समय देने का आग्रह किया था। हालांकि, जरांगे अपनी २४ दिसंबर की समय सीमा पर अड़े रहे।

अन्य समाचार