मुख्यपृष्ठनए समाचार‘ईडी’ सरकार कर रही है मुंबई की सुरक्षा को नजरअंदाज

‘ईडी’ सरकार कर रही है मुंबई की सुरक्षा को नजरअंदाज

सामना संवाददाता / मुंबई
देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की सुरक्षा को लेकर राज्य की ‘ईडी’ सरकार कितनी असंवेदनशील है कि पुलिस विभाग में रिक्त पदों को भरने में उसकी कोई रुचि नहीं दिखाई दे रही है। बता दें कि मुंबई शहर में कानून-व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली को दी गई जानकारी के अनुसार, यह पता चला है कि अपर पुलिस आयुक्त पद से लेकर कांस्टेबल पद तक १२ हजार ८९९ पद रिक्त हैं। मुंबई पुलिस आयुक्तालय के सहायक पुलिस आयुक्त विनोद कांबले ने अनिल गलगली को ३० नवंबर २०२३ तक की जानकारी दी। कुल स्वीकृत पदों की संख्या ५१,३०८ है। इसमें ३८,४०९ कार्यरत पद और १२,८९९ रिक्त पद हैं।
सबसे ज्यादा रिक्तियां पुलिस कांस्टेबल की
पुलिस कांस्टेबल के २८,९३८ पद स्वीकृत हैं। इनमें से १७,८२३ पद कार्यरत हैं और ११,११५ पद रिक्त हैं। इसके बाद जहां पुलिस सब इंस्पेक्टर के ३,५४३ पद स्वीकृत हैं, वहीं २,३१८ पद ही कार्यरत हैं और १,२२५ पद रिक्त हैं। पुलिस इंस्पेक्टर के १,०९० पद स्वीकृत हैं, जिनमें से ३१३ पद रिक्त हैं और वर्तमान में ९७७ पद कार्यरत हैं। सहायक पुलिस आयुक्त के १४१ में से २९ पद रिक्त हैं। पुलिस उपायुक्त के ४३ पद स्वीकृत हैं तथा ३९ पद कार्यरत हैं, जिनमें ४ पद रिक्त हैं, वहीं अपर पुलिस आयुक्त के १२ में से सिर्फ १ पद रिक्त है। गलगली के मुताबिक, स्वीकृत पद पहले से ही हैं और इनमें कोई बदलाव नहीं हुआ है, लेकिन हर साल सेवानिवृत्ति के कारण रिक्तियों की संख्या बढ़ती जा रही है।

अन्य समाचार