मुख्यपृष्ठनए समाचारसदन में फूटी ‘ईडी’ सरकार की ‘इज्जत की हंडी’! टोकने...

सदन में फूटी ‘ईडी’ सरकार की ‘इज्जत की हंडी’! टोकने पर भड़के अजीत पवार

  • मंत्री शंभुराज को दिया कड़ा जवाब

सामना संवाददाता / मुंबई
बागियों के सहारे सत्ता में आई ‘ईडी’ सरकार के होश कल विधानमंडल में उड़ गए। विपक्ष ने ‘ईडी’ सरकार पर जोरदार हमला कर उसकी ‘इज्जत की हंडी’ फोड़ दी। नेता प्रतिपक्ष अजीत पवार ने कल विधान सभा में मंत्री शंभुराज देसाई को खड़े बोल सुनाए। राज्य में आई बाढ़ से हुए नुकसान को लेकर पवार सदन में बोल रहे थे। इसी बीच शंभुराज देसाई ने उन्हें टोक दिया। इससे अजीत पवार का पारा चढ़ गया। उन्होंने शंभुराज देसाई से कहा कि हम साथ में काम कर चुके हैं, इसलिए बीच में मत बोलिए।
मानसून सत्र के दूसरे दिन भी विपक्ष आक्रामक रहा। नेता प्रतिपक्ष अजीत पवार ने किसानों के मुद्दों को लेकर कल मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और अन्य मंत्रियों को घेरने की कोशिश की। अजीत पवार ने कहा कि एकनाथ शिंदे, आपने कैबिनेट में एक साथ लिए गए महाविकास आघाड़ी सरकार के फैसलों को स्थगित कर दिया है। भाजपा और शिंदे समूह के विधायकों को विकास कार्य के लिए ५०-५० करोड़ रुपए दिए गए हैं, लेकिन हमारे साथ भेदभाव किया जा रहा है। शिंदे साहब का यह व्यवहार ठीक नहीं है। सभी दिन एक जैसे नहीं होते हैं। हम कब फिर साथ आ जाएं, इसका कोई भरोसा नहीं है।
पवार ने कहा कि राज्य में भारी बारिश से आई बाढ़ से नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि राज्य में गीला दुष्काल घोषित किया जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि वर्ष २००३ में आघाड़ी सरकार के कार्यकाल में वैâसे कृत्रिम बारिश का प्रयोग किया गया था। इसी बीच शंभुराज देसाई ने उन्हें टोकते हुए कहा कि इस साल बारिश अच्छी हुई है। फिर क्या था, अजीत पवार का पारा चढ़ गया। उन्होंने शंभुराज देसाई को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हर तरफ गीला दुष्काल पड़ा हुआ है। बारिश अच्छी हुई है कि बात क्यों कर रहे हैं? हम एक साथ काम कर चुके हैं, इसलिए बीच में मत बोलिए।

अन्य समाचार