मुख्यपृष्ठनए समाचारनाराज बागियों को खुश करने के लिए `ईडी' सरकार का ट्रांसफर सत्र!...

नाराज बागियों को खुश करने के लिए `ईडी’ सरकार का ट्रांसफर सत्र! मनपा अधिकारियों में नाराजगी

सामना संवाददाता / मुंबई
मुंबई मनपा के आगामी चुनाव को देखते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे-उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस यानी `ईडी’ सरकार सक्रिय हो गई है और मुंबई मनपा के उन अधिकारियों का स्थानांतरण सत्र शुरू कर दिया है जो उनके अनुकूल  नहीं हैं। बागी विधायकों के इशारे पर कुछ अधिकारियों का बार-बार तबादला किया जा रहा है। इसे लेकर मुंबई के अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। इतना ही नहीं `ईडी’ सरकार की इस कार्यशैली से अधिकारियों में भारी नाराजगी है। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि नाराज बागियों को खुश करने के लिए `ईडी’ सरकार द्वारा ये सब किया जा रहा है।
बता दें कि महाराष्ट्र में `ईडी’ सरकार आने के बाद राजनीतिक समीकरण बदलने लगे हैं और `ईडी’ सरकार मुंबई सहित अन्य महापालिकाओं की सत्ता पर कब्जा करने के लिए अभी से साम, दाम, दंड, भेद की रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है। इसी के तहत विभिन्न मनपाओं के विभागीय कार्यालयों से उन अधिकारियों को हटाने का ट्रांसफर सत्र शुरू कर दिया है, जो बागी विधायकों के निर्वाचन क्षेत्र के लिए अनुकूल नहीं हैं। इस मुहिम में मुंबई के बागी विधायक प्रकाश सुर्वे, मंगेश कुडालकर, दिलीप लांडे और सदा सरवणकर आदि का समावेश होने की चर्चा है। इसके अलावा बागी सांसद राहुल शेवाले सहित भाजपा के विधायकों का भी इस मुहिम में समावेश है। मुंबई मनपा के दहिसर स्थित आर-नॉर्थ डिविजन कार्यालय में सहायक आयुक्त मृदुला अंडे का कुछ दिन पहले जल्दबाजी में तबादला कर दिया गया था। उन्हें एन डिविजन कार्यालय के सहायक आयुक्त के रूप में स्थानांतरित किया गया था। लेकिन भाजपा विधायक के विरोध के चलते अंडे को एम-वेस्ट डिविजन कार्यालय का सहायक आयुक्त नियुक्त करने के आदेश जारी किए गए पर इस क्षेत्र में बागी नेताओं के विरोध के कारण वे तैनात नहीं हो सकीं। अब एक बार फिर उन्हें अतिक्रमण विभाग के सहायक आयुक्त के पद पर कार्यभार ग्रहण करने के आदेश जारी किए गए हैं।
कुछ का बार-बार तबादला
दक्षिण मध्य मुंबई में दादर, माहिम, धारावी को कवर करने वाले जी-नॉर्थ डिविजन कार्यालय की सहायक आयुक्त किरण दिघावकर को आनन-फानन में ई डिविजन कार्यालय के सहायक आयुक्त के रूप में स्थानांतरित किया गया। उसके बाद उनका एक बार फिर मालाड क्षेत्र स्थित पी-उत्तर संभाग कार्यालय के सहायक आयुक्त के पद पर तबादला कर दिया गया है। कुछ ही दिनों में दिघावकर को ई विभाग से हटा दिया गया है। बागी विधायक सदा सरवणकर जी-उत्तर संभाग कार्यालय के माहिम विधानसभा क्षेत्र में विधायक हैं, जबकि यामिनी जाधव भायखला निर्वाचन क्षेत्र से विधायक हैं, जिसमें ई संभाग कार्यालय भी शामिल है। एफ-साउथ डिविजन कार्यालय की सहायक आयुक्त स्वप्ना क्षीरसागर को ए डिविजन कार्यालय, पी-नॉर्थ के महेश पाटील को एफ-साउथ डिविजन, परिवहन विभाग के कार्यकारी अभियंता अजय कुमार हरिहर यादव को ई डिविजन के सहायक आयुक्त के रूप में स्थानांतरित किया गया है। वहीं ठोस कचरा प्रबंधन विभाग की उपायुक्त संगीता हसनाले का तबादला उपायुक्त मंडल-१, जबकि उपायुक्त चंदा जाधव का तबादला उपायुक्त ठोस कचरा व्यवस्थापन के पद पर किया गया है। प्रबंधन विभाग उपायुक्त, सहायक आयुक्त का तबादला सत्र शुरू होने से अधिकारियों में नाराजगी का माहौल है। इसी प्रकार राज्य में अन्य १४ महापालिकाओं में जहां चुनाव होने वाले हैं, वहां भी बागी स्थानीय नेताओं के इशारे पर `ईडी’ सरकार ने सत्ता पर कब्जा करने के लिए ट्रांसफर सत्र जारी रखा है।

अन्य समाचार