मुख्यपृष्ठनए समाचारईडी ने रची, विपक्ष की आवाज को चुप कराने की साजिश! ...बिना...

ईडी ने रची, विपक्ष की आवाज को चुप कराने की साजिश! …बिना वॉरंट नेताओं के घर डाले जा रहे हैं छापे

परेशान करने के लिए भेजे जा रहे हैं समन
सामना संवाददाता / नई दिल्ली
विपक्ष ने ‘इंडिया’ गठबंधन के बैनर तले एकजुट होकर भाजपा को खुली चुनौती दे दी है। ऐसे में भाजपा को २०२४ में हार का डर बुरी तरह से सताने लगा है। यही कारण है कि बौखलाई भाजपा अब विपक्षी नेताओं को चुप कराने के लिए साजिश रच रही है और इस काम में केंद्रीय जांच एजेंसियों का खुला इस्तेमाल कर रही है। इसमें ईडी व सीबीआई प्रमुख है। ये बिना वॉरंट के विपक्षी नेताओं के परिसरों में छापेमारी कर रही हैं। तमिलनाडु, प. बंगाल और दिल्ली में इसके कई उदाहरण देखने को मिले हैं।
आम आदमी पार्टी ने कल आरोप लगाया कि ‘ईडी’ की छापेमारी लोकसभा चुनाव से पहले विपक्ष के नेताओं को चुप कराने की भाजपा की कोशिश है। ‘आप’ के सूत्रों ने बताया कि ईडी ने धनशोधन संबंधी एक मामले की जांच के तहत दिल्ली के वैâबिनेट मंत्री राज कुमार आनंद के परिसरों और कुछ अन्य स्थानों पर कल छापा मारा है। ‘आप’ नेता और वैâबिनेट मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कल एक वीडियो संदेश जारी करते हुए कहा कि ब्रिटिश शासनकाल के दौरान भी पुलिस छापेमारी की अनुमति लेने के लिए अदालत जाया करती थी। हर रोज भाजपा के ब़ड़े-बड़े घोटालों की खबरें आती हैं। ईडी किसी भाजपा के सीएम और मंत्री के यहां क्यों नहीं जाती? उन्होंने कहा, ‘लेकिन आज ईडी छापे मारने का खुद ही पैâसला करती है। यह विपक्ष की आवाज को चुप कराने की साजिश है। इस तरीके से भाजपा २०२४ का लोकसभा चुनाव जीतना चाहती है क्योंकि यह तय है कि चुनाव के बाद उसकी वापसी नहीं होगी।’ इस मामले में भाजपा की दिल्ली इकाई के सचिव हरीश खुराना ने कहा, ‘प्रवर्तन निदेशालय ने कानून के तहत यह कार्रवाई की है। हम वर्षों से यह कहते आ रहे हैं कि केजरीवाल और उनके मंत्री घोटालों में शामिल हैं। ईडी की कार्रवाई कानून के मुताबिक है। यह पता चला है कि यह छापेमारी कुछ हवाला और सीमा शुल्क संबंधी जांच को लेकर है।’ इसके पहले आप सांसद राघव चड्ढा ने भाजपा के ऊपर सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा था कि २०२४ में भाजपा को हार का डर सता रहा है। इसके लिए वह विपक्ष के प्रमुख नेताओं को टारगेट कर रही है। राघव ने कहा कि दिल्ली, झारखंड, महाराष्ट्र, प. बंगाल, बिहार, केरल, तमिलनाडु जैसे विपक्ष शासित सभी राज्यों के प्रमुख नेताओं को आनेवाले दिनों में गिरफ्तार किया जाएगा। भाजपा इन राज्यों में विपक्ष की ताकत को कमजोर कर देना चाहती है ताकि २०२४ में उसे चुनौती न दे सके।

हाजिर नहीं हुए केजरीवाल
ईडी ने समन देकर कल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को बुलाया था। मगर केजरीवाल ने ईडी से कहा कि उनकी पहले से चुनावी रैली तय है इसलिए वे नहीं आ सकते। केजरीवाल के घर के बाहर मीडिया का भारी जमावड़ा लगा हुआ था। उसके बीच से केजरीवाल अपनी कार में रैली के लिए निकल गए।

अन्य समाचार