मुख्यपृष्ठसंपादकीयसंपादकीय : देश में बुलडोजर, लद्दाख में दुम!

संपादकीय : देश में बुलडोजर, लद्दाख में दुम!

भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रभक्ति पर संदेह किया जाए, ऐसा बर्ताव उनके द्वारा रोज ही किया जा रहा है। राजनीति के बाजार में जैसे नकली हिंदुत्व के ठेकेदार घुस आए हैं। उसी तरह नकली राष्ट्रभक्त भी मुखौटे लगाकर घूम रहे हैं। राज्यसभा चुनाव की जीत का उत्सव भारतीय जनता पार्टी राज्यों-राज्यों में मना रही है। महाराष्ट्र में राज्यसभा की छठी सीट क्या जीती भाजपा ने तो ‘बैंड बाजे’ के साथ जीत का जुलूस निकाला। एक राज्यसभा जीतने का उत्सव जो लोग मनाते हैं, उन्हें देश पर मंडरा रहे संकट के संबंध में कुछ अनुमान है क्या? पूर्वी लद्दाख की सीमा पर चीन ने एक एयरबेस का निर्माण कर लिया है। वहां उन्होंने ‘जे-२०’ और ‘जे-११’ जैसे फाइटर जेट लड़ाकू  विमान तैनात कर दिए हैं। परंतु इस संदर्भ में मोदी सरकार के चेहरे पर कोई चिंता की रेखा आज दिख रही है क्या? यह एयरबेस लद्दाख की सीमा में बन रहा है अर्थात चीन द्वारा किया गया यह हमला है। छठी सीट का विजयोत्सव मनाकर ‘मास्टर स्ट्रोक’ मारनेवाले चाणक्यों को चीन का यह मास्टर स्ट्रोक चुभता नहीं, इस पर हैरानी होती है। चीन ने हिंदुस्थान की सीमा पर फौज जुटाना शुरू कर दिया है। टैंक-तोप तो थे ही अब फाइटर जेट भी लाकर रख दिया है। एक तो यह लद्दाख पर हमला है और दूसरा मतलब हिंदुस्थान की संप्रभुता को दी गई सैन्य चुनौती है। लद्दाख की सीमा में चीन की जो हरकतें व घुसपैठ चल रही है, इस पर अमेरिकी जनरल चाल्र्स ए. फ्लीन ने चिंता व्यक्त की है। लद्दाख की सीमा में चीन की हरकतें अर्थात खतरे की घंटी होने की बात जनरल फ्लीन ने कही है। परंतु हिंदुस्थान की ओर से क्या कहा गया तो लद्दाख में चीन की हरकतों पर कहते हैं कि हमारी पैनी नजर है। ओ साहेब, आपकी पैनी नजर को धोखा देकर चीन पहले गलवान घाटी में घुसा और वहां की तीन हजार वर्गमीटर जमीन पर उसने कब्जा कर लिया तथा आज भी चीनी सेना वहां डेरा डाले बैठी ही है। इंच भर भी पीछे हटने को तैयार नहीं है। आपकी उस पैनी नजर वाली आंखों में धूल झोंककर चीन ने लद्दाख की सीमा में सड़क, पुल का काम जोर-शोर से शुरू किया है। पैंगांग झील के पास तो मजबूत पुल का काम उसने पूरा कर ही लिया है। क्या कर रही है आपकी पैनी नजर? और अब तो एयरबेस बनाकर ‘जे-२०’ फाइटर जेट तैनात कर दिए हैं। यह एयरबेस दिल्ली से एक हजार किलोमीटर की दूरी पर है तथा ‘जे-२० जेट’ इस दूरी को सिर्फ २५ मिनट में नाप सकते हैं। ये जेट विमान एक घंटे में २,१०० किलोमीटर की दूरी तय कर सकते हैं। चीन का लद्दाख की सीमा में ऐसे भारी लड़ाकू विमानों को बड़ी संख्या में तैनात करना हमारे नजरिए से अच्छा नहीं है। परंतु इस बारे में छठी सीट का मास्टर स्ट्रोक मारनेवालों को न दुख है न अफसोस है! वे राजनीतिक जीत के नशे में चूर हो गए हैं। कश्मीर घाटी में हिंदुओं के खून के छींटे गिर रहे हैं। पुलिस अधिकारियों की हत्या हो रही है। यह उन पाकिस्तानियों का अतिक्रमण है। तो वहां लेह-लद्दाख में चीन का आक्रमण जारी है। महाराष्ट्र-हरियाणा में राज्यसभा की अधिक सीटें जीतने से ये शत्रु सीमा पर से हटनेवाले हैं क्या? जहां जीतना चाहिए वहां हाथ भर की दुम दबा लेना, परंतु राज्यसभा, विधान परिषद चुनावों का विजयोत्सव मनाना यही इनकी राष्ट्रीय नीति नजर आ रही है। ‘ईडी’, ‘सीबीआई’ की धौंस राजनीतिक विरोधियों को दिखाई जाती है। उस धौंस से लद्दाख सीमा में घुसा चीन पीछे हटनेवाला है क्या? ऐसा होता होगा तो वह भी करके देख लो। लद्दाख में चीन इस कदर घुसकर बैठा है कि ‘गुजरात रेजीमेंट’ के मुंह पर इस बारे में स्थाई टेप लग गया है। यह राष्ट्रीय सुरक्षा व स्वाभिमान का विषय है। मोहम्मद पैगंबर की भाजपा प्रवक्ता द्वारा अवमानना करते ही पूरे देश में मुस्लिम समाज निषेध व धिक्कार का एलान करते हुए सड़क पर उतर आया। कानपुर, दिल्ली, प्रयागराज जैसे शहरों में इसे लेकर दंगे हुए। ये सब दंगाई मुसलमान थे। उन पर हजारों की संख्या में आपराधिक मामला दर्ज करके गिरफ्तारी की गई और दंगाइयों के घरों, दुकानों पर तुरंत बुलडोजर चलाकर बदला लिया गया। यही बुलडोजर लद्दाख की सीमा में चीन ने जो अवैध सड़क, पुल, इमारतें बनाई हैं उन पर कब चलाएंगे? चीन ने लद्दाख में बड़ी संख्या में जो निर्माण कार्य किए हैं उस पर जिस दिन राष्ट्रीय स्वाभिमान का यह बुलडोजर चलाया जाएगा उसी दिन आज के शासक ‘मास्टर स्ट्रोक’ मारनेवाले दिलेर हैं यह सिद्ध होगा। दुर्बलों को कुचलना व शक्तिमान लाल चीनियों के समक्ष नरमाई से पेश आना, इसे क्या कहना चाहिए? कुल मिलाकर, हमारे अंतर्गत व राष्ट्रीय सुरक्षा से यह खिलवाड़ चल रहा है। चीन द्वारा लद्दाख में तैनात किए गए जेट विमान २५ मिनट में दिल्ली की ओर उड़ान भरेंगे फिर भी हमारे नए बादशाह कहेंगे, ‘दिल्ली अभी दूर है।’ अथवा चीन द्वारा अवैध निर्माण किया गया इसलिए गुस्से में चांदनी चौक या जामा मस्जिद परिसर में बुलडोजर भेजेंगे। देश को राष्ट्रभक्ति का सबक सिखानेवालों के दीये एवं पुश्त के नीचे यह अंधेरा है। राज्यसभा की छठी सीट से अक्ल के दिए जगमगा उठे यह सत्य है, परंतु कश्मीर के हिंदुओं का रक्तपात इससे रुका नहीं और लद्दाख में घुसा चीन भी पीछे नहीं हटेगा यह वास्तविकता है। अर्थात विजय का मास्टर स्ट्रोक राज्यसभा में मारने से व वह ‘स्ट्रोक’ दिल्ली दरबार पहुंचने से चीनियों के लिए ‘दिल्ली बहुत दूर है’ इस नशे में ही चाणक्यों की टोली झूम रही है। जीत की नशेबाजी में वे उड़ रहे हैं। उनका उड़ना देश को नीचे गिराएगा। चीन ने लद्दाख की सीमा में एयरबेस बनाया है, यह जानकर भी जो लोग घटनाक्रमों पर नजर रख रहे हैं उनकी नजरों में उदासीनता व मदमस्ती का मोतियाबिंद ही बढ़ा है।

अन्य समाचार