मुख्यपृष्ठसमाचारशिक्षा नगरी पिलानी व खाटूश्याम जी रेल लाइन से जुड़ेंगे

शिक्षा नगरी पिलानी व खाटूश्याम जी रेल लाइन से जुड़ेंगे

रमेश सर्राफ धमोरा / झुंझुनू

राजस्थान के झुंझुनू जिले में शिक्षा नगरी के नाम से मशहूर पिलानी कस्बा अब रेल लाइन से जुड़ेगा। पिलानी में रेल लाइन के लिए लोहारू और पिलानी के बीच 24 किलोमीटर नई रेलवे लाइन के लिए सर्वे किया जाएगा। इसके बाद हरियाणा के लोहारू से रेल लाइन के जरिए जोड़ा जाएगा। रेलवे बोर्ड के ज्वाइंट डायरेक्टर सिविल अभिषेक जगावत ने 21 फरवरी को आदेश जारी किए हैं। लोहारू से पिलानी तक के फाइनल सर्वे के लिए 60 लाख रुपए की स्वीकृत जारी की है।
देश के जाने-माने उद्योगपति बिड़ला परिवार की जन्मस्थली पिलानी कस्बा ही हैं। बिरला परिवार द्धारा पिलानी में बिट्स पिलानी जैसे संस्थान की स्थापना कर उसका संचालन किया जा रहा है, जो शिक्षा के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। पिलानी में केंद्र सरकार का सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट कार्यरत हैं, जहां कार्यरत वैज्ञानित नित नए आविष्कार करत रहते हैं। बिट्स पिलानी में देश, दूनिया से स्टूडेंट पढ़ने के लिए आते हैं। यहां पर रेल सेवा नहीं होने के कारण उन्हें काफी परेशानी होती है। पिलानी में काफी लम्बे समय से रेल की मांग भी की जा रही थी। पिलानी के रेल लाइन से जुड़ने से स्टूडेंट्स को काफी फायदा होगा।
इसी आदेश में बताया गया है कि खाटूश्याम जी और सालासर व सुजानगढ़ के बीच भी रेलवे लाइन के लिए सर्वे किया जाएगा। इस 45 किलोमीटर रेल लाइन के लिए एक करोड़ 12 लाख 50 हजार रुपए खर्च किए जाएंगे। दोनों रेल लाइनों के सर्वे करने के लिए एक करोड़ 72 लाख रुपए स्वीकृत किए गए हैं। दोनों लाइनों का सर्वे होने के बाद रिपोर्ट रेलवे बोर्ड में पेश की जाएगी। इसके बाद दोनों लाइनों को लेकर आगे का फैसला होगा। रींगस के पास स्थित खाटू श्याम जी मंदिर और सालासर बालाजी मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध हैं। यहां पूरे से देश श्रद्धालु आते रहते हैं। यात्रियों को रेल सुविधा मिलने से काफी फायदा होगा। दोनों मंदिरों में पूरे देश से यात्री आते हैं। अब रेलवे ने सर्वे करने के आदेश दिए हैं। अब खाटूश्याम जी और सालासार के रेल लाइन से जुड़ने की उम्मीद बंधी है।

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा