मुख्यपृष्ठनए समाचारलंबाई का लोचा!... जेजे अस्पताल ने किया कमाल

लंबाई का लोचा!… जेजे अस्पताल ने किया कमाल

•  बीमार की घटती हाइट पर लगाया ब्रेक
• पैराथायरॉइड एडेनोमा ग्रस्त थी महिला
धीरेंद्र उपाध्याय / मुंबई । छोटे कद के लोगों का अक्सर लोग मजाक उड़ाते हैं, जिसकी वजह से उन्हें हीन भावना का सामना करना पड़ता है। लेकिन समस्या उस समय और विकट हो जाती है जब किसी का मौजूदा कद भी घटने लगे। एक महिला की घटती लंबाई के लोचे से छुटकारा दिलाने का कमाल मुंबई स्थित जेजे अस्पताल के डॉक्टरों ने किया है। पीड़िता पैराथायरॉइड एडेनोमा नामक बीमारी से ग्रस्त थी। सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ. अजय भंडारवार के नेतृत्व में दो घंटों तक चली एंडोस्कोपी सर्जरी में डॉक्टरों की टीम ने पैराथायरॉइड ग्रंथि से ट्यूमर को बड़ी सावधानी से निकाल दिया और घटती लंबाई की समस्या पर ब्रेक लगा दिया।
थायरॉयड ग्रंथि का निकालना पड़ा एक हिस्सा
प्रोफेसर डॉ. अमोल वाघ ने बताया कि महिला को जहां पर ट्यूमर था, वहां स्थित थायरॉयड ग्रंथि का एक हिस्सा भी निकालना पड़ा। इस सर्जरी ने महिला को नया जीवन दिया है। डॉ. वाघ ने कहा कि बीमारी की वजह से महिला की हाइट घटती ही जा रही थी। उन्होंने कहा कि सर्जरी के बाद अब महिला कुछ ही महीनों में पूरी तरह रिकवर हो जाएगी। डॉ. वाघ ने कहा कि आमतौर पर इस तरह की ग्रंथियों से किसी हिस्से को हटाने के लिए ओपन सर्जरी की जरूरत होती है। हालांकि महाराष्ट्र में जेजे सहित दो ही अस्पताल ऐसे हैं जहां बिना चीरफाड़ के मामूली कट कर एंडोस्कोपी सर्जरी होती है।

४.५ से ४.२ फीट हो गई थी हाइट
डॉ. वाघ ने कहा कि ३२ वर्षीय महिला रुपाली ठाकरे विदर्भ जिले की निवासी है। वह बीते दो वर्षों से बीमारी से जूझ रही थी। उसे बारबार रिपीटर एब्डॉमिनल पेन की शिकायत हो रही थी। साथ ही उसकी लंबाई भी ४.५ फीट से घटकर ४.२ फीट हो गई थी। इतना ही नहीं उसे किडनी स्टोन और माइल्ड फैक्चर की शिकायत होने लगी थी। इसके बाद परिजन उसे हड्डी रोग विशेषज्ञ के पास ले गए। जांच में पता चला कि महिला के बोन में वैâल्शियम कम होते जा रहा है। इतना ही नहीं उसमें पैराथायरॉइड हॉर्मोंस बढ़ गए थे। स्वैâन से पता चला कि टिशू के चार में से सबसे नीचे स्थित ग्राइड में ट्यूमर हो गया है, जो बोन से वैâल्शियम को कम करने का काम कर रहा है।

अन्य समाचार