मुख्यपृष्ठविश्वआर्थिक तंगी से सुलग रही है लंका.... श्रीलंका में इमरजेंसी!

आर्थिक तंगी से सुलग रही है लंका…. श्रीलंका में इमरजेंसी!

• कोलंबो में सेना तैनात, कड़ी सुरक्षा के बीच खुली दुकान
एजेंसी / कोलंबो । श्रीलंका में गहराती आर्थिक समस्या के बीच राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने कल आपातकाल का एलान कर दिया। आदेश में कहा गया है कि देश की सुरक्षा और आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति के रखरखाव के लिए ये पैâसला लिया गया है। इसके बाद पूरे देश में सुरक्षा बढ़ा दी गई। राजधानी कोलंबो में सेना की तैनाती के बीच दुकानें खोली गर्इं, ताकि लोग जरूरी सामान खरीद सकें। इमरजेंसी के एलान के बाद सेना संदिग्धों को बिना किसी मुकदमे के गिरफ्तार कर सकती है और लंबे समय तक हिरासत में रख सकती है। राजपक्षे की सरकार को समर्थन दे रही ११ पार्टियों ने वैâबिनेट भंग कर अंतरिम सरकार के गठन की मांग की है। इनका कहना है कि हालिय वैâबिनेट बढ़ती महंगाई पर लगाम लगाने में नाकाम साबित हुई है।
हिंसा के आरोप में ४५ गिरफ्तार
खबर के मुताबिक इससे पहले देर रात हजारों लोगों ने राष्‍ट्रपति राजपक्षे के निवास के बाहर विरोध-प्रदर्शन और पथराव किया था। जवाबी कार्रवाई करते हुए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इस हिंसक टकराव में ५ पुलिसकर्मियों समेत १० लोग घायल हो गए। हिंसा के आरोप में ४५ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि श्रीलंका में फ्यूल और गैस की कमी हो गई है। पेट्रोल-डीजल के लिए लोगों को कई घंटों तक लाइन लगाना पड़ रहा है। एजुकेशनल बोर्ड के पास कागज और स्याही खत्म हो गई है, जिसके बाद परीक्षाएं टाल दी गई हैं। आलम ये है कि यहां लोगों के लिए दूध सोने से भी ज्यादा महंगा हो गया है। लोगों को दो वक्त की रोटी के लिए भी कई परेशानियों से जूझना पड़ रहा है।श्रीलंका की अर्थव्यवस्था में टूरिज्म सेक्टर का बड़ा रोल है, लेकिन कोरोना की मार से यह पहले ही ठप पड़ा है। टूरिज्म देश के लिए फॉरेन करेंसी का तीसरा बड़ा सोर्स है। इसके कमजोर पड़ने से देश का विदेश मुद्रा भंडार लगभग खाली हो चुका है। करीब ५ लाख श्रीलंकाई सीधे पर्यटन पर निर्भर हैं, जबकि २० लाख अप्रत्यक्ष रूप से इससे जुड़े हैं। श्रीलंका की अर्थव्यवस्था में टूरिज्म का १० फीसदी से ज्यादा योगदान है। टूरिज्म से सालाना करीब ५ अरब डॉलर फॉरेन करेंसी श्रीलंका को मिलती है।

अन्य समाचार