मुख्यपृष्ठअपराधराजौरी में मुठभेड़, मरने वाले आतंकी हुए दो

राजौरी में मुठभेड़, मरने वाले आतंकी हुए दो

राजौरी और मच्छेल में हथियार व गोला-बारूद भी बरामद
सुरेश एस डुग्गर / जम्मू
जम्मू संभाग के राजौरी जिले में दो हफ्ते पहले हुई मुठभेड़ में मारे गए उस दूसरे आतंकी का शव भी बरामद कर लिया गया है, जिसके प्रति दावा किया जा रहा था। शव के साथ ही हथियार व गोला-बारूद भी बरामद हुए हैं। हथियारों और गोला-बारूद की खेप मच्छेल सेक्टर में भी बरामद हुई है, जो उस पार से आतंकियों के लिए भिजवाई जा रही थी।
पुलिस को राजौरी जिले के खवास बुद्धल इलाके में गोलीबारी के लगभग दो सप्ताह बाद शुक्रवार को एक आतंकवादी का शव मिला है, जिसमें उसका सहयोगी मारा गया था और ५ अगस्त को उसकी लाश भी बरामद की गई थी। सेना और पुलिस ने कहा था कि उस दिन मुठभेड़ में एक आतंकी घायल हो गया था। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि राजौरी जिले के खवास बुद्धल में मुठभेड़ में घायल दूसरे आतंकी का शव पुलिस के एसओजी को ढकीकोट इलाके में मिला है। उन्होंने कहा कि आतंकियों के कब्जे से ग्रेनेड, मैगजीन और अन्य सामग्री मिली है।
जम्मू क्षेत्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश सिंह ने कहा कि खवास में मुठभेड़ में घायल दूसरे आतंकी का शव विशेष अभियान समूह (एसओजी) को रियासी के ढकीकोट इलाके में मिला। उन्होंने बताया कि अधिकारियों ने मौके से २ ग्रेनेड, ३ एके-४७ मैगजीन, ९० एके राउंड, ३२ पिस्टल राउंड और कुछ अन्य सामग्री बरामद की गई।
एसएसपी राजौरी अमृतपाल सिंह ने भी शव मिलने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि शव रियासी इलाके की ओर मिला है। बरामदगी के साथ, मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए हैं।
इस बीच भारतीय सेना के जवानों को बड़ी सफलता हाथ लगी है। उन्होंने किसी अप्रिय घटना के होने से पहले ही उसका भंडाफोड़ कर दिया है। दरअसल, उत्तरी कश्मीर से जवानों को हथियारों का जखीरा बरामद हुआ है।
उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे मच्छेल सेक्टर में सेना ने अपने एक तलाशी अभियान के दौरान पांच असाल्ट राइफलें, सात पिस्तौल, चार हथगोले व अन्य साजो-सामान बरामद किया है। हथियारों का यह जखीरा कश्मीर में बैठे आतंकी कमांडरों ने कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के लिए भेजा था। प्रवक्ता ने बताया कि भारतीय सेना, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और जम्मू कश्मीर पुलिस के बीच एक समन्वित प्रयास में, १५-१८ अगस्त तक कुपवाड़ा के मच्छेल सेक्टर में एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया था। यह ऑपरेशन विभिन्न एजेंसियों से प्राप्त खुफिया सूचनाओं पर आधारित था, जो क्षेत्र में युद्ध जैसे भंडार की संभावित उपस्थिति का संकेत दे रहा था।
प्रवक्ता ने कहा कि ऑप्रेशन के महत्वपूर्ण परिणाम मिले और भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया। बरामद वस्तुओं में ५ एके राइफल, ७ पिस्तौल, ४ हथगोले और आपत्तिजनक प्रकृति की अन्य सामग्री शामिल हैं। भारतीय सेना की चिनार कोर के नेतृत्व में तलाशी अभियान अभी भी जारी है। यह सफल आप्रेशन क्षेत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने में सुरक्षा बलों के सहयोगात्मक प्रयासों का एक प्रमाण है।

अन्य समाचार