मुख्यपृष्ठसमाचारआबकारी मामले में ‘ईडी’ की हुई एंट्री! मनी लॉन्ड्रिंग एंगल से करेगी...

आबकारी मामले में ‘ईडी’ की हुई एंट्री! मनी लॉन्ड्रिंग एंगल से करेगी जांच

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
दिल्ली के मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की जांच वाले मामले में अब ‘ईडी’ की भी एंट्री हो रही है। सीबीआई ने दिल्ली में शराब घोटाले को लेकर जो प्राथमिकी दर्ज की है, उसकी कॉपी स्पेशल कोर्ट के समक्ष पेश की गई और अब वही कॉपी ‘ईडी’ को भी दी जाएगी। ईडी इस मामले को मनी लॉन्ड्रिंग के एंगल से परखेगी। सीबीआई ने दिल्ली शराब घोटाला मामले में १७ अगस्त को १५ लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।
सीबीआई ने इस मामले में आबकारी मंत्री मनीष सिसोदिया को मुख्य आरोपी बनाया है। उनके अलावा तत्कालीन आबकारी आयुक्त अरवा गोपीकृष्णा, तत्कालीन आबकारी उपायुक्त आनंद तिवारी, आबकारी अतिरिक्त आयुक्त पंकज भटनागर, एंटरटेनमेंट एंड इवेंट मैनेजमेंट कंपनी ऑनली मच लाउडर के सीईओ विजय नायर, पेरनोड रिकॉर्ड के पूर्व कर्मी मनोज राय, ब्रिंडको सेल्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अमनदीप ढल, इंडोस्प्रिट ग्रुप के प्रबंध निदेशक समीर महेंद्रु, बडी रिटेल प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अमित अरोड़ा, फर्म बडी रिटेल प्राइवेट लिमिटेड, दिनेश अरोड़ा, फर्म महादेव लिकर्स, महादेव लिकर्स के वरिष्ठ अधिकारी सन्नी मारवाह, अरुण रामचंद्र पिल्लई, अर्जुन पांडे आदि शामिल हैं। गौरतलब है कि सीबीआई ने शुक्रवार को सिसोदिया के आवास के साथ-साथ कुछ नौकरशाहों और कारोबारियों के ठिकानों सहित ३१ स्थानों पर छापेमारी की कार्रवाई की थी। ‘आप’ ने छापेमारी की कार्रवाई की निंदा की। पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया कि एजेंसी को उनकी पार्टी के नेताओं को प्रताड़ित करने के लिए ऊपर से निर्देश दिए गए हैं।

अन्य समाचार