मुख्यपृष्ठनए समाचारयूरोप ने रूस को दिया झटका ,बीच में पाकिस्तान अटका! अंधेरे में...

यूरोप ने रूस को दिया झटका ,बीच में पाकिस्तान अटका! अंधेरे में डूबेगा पाकिस्तान

ईंधन देने से किया इनकार

एजेंसी / मास्को
रूस ने यूक्रेन पर हमला किया, जिसमें लाखों की जान गई। हजारों परिवार बेघर हो गए। इसके अलावा विश्वभर के कई देशों ने रूस का विरोध भी जताया। अब यूरोप ने रूस को आर्थिक झटका देते हुए उसे ईंधन देने से इनकार कर दिया है। इस निर्णय की वजह से सिर्फ रूस ही नहीं बल्कि पाकिस्तान भी अटक सकता है, यानी पाकिस्तान पर भी असर पड़ रहा है। यूरोप की इस चाल से पाकिस्तान अंधेरे में डूब जाएगा। इससे हाल ही में सत्ता में आई शहबाज शरीफ की सरकार कुर्सी पर भी खतरा मंडराने लगा है। सूत्रों के अनुसार एक दशक पहले पाकिस्तान ने तेल की अचानक बढ़ती और गिरती कीमतों से खुद को बचाने के लिए एलएनजी में बड़े पैमाने पर निवेश किया था। इसके लिए उसने इटली और कतर के साथ दीर्घकालिक गैस आपूर्ति समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे। अब इनमें से कुछ आपूर्तिकर्ता डिफॉल्ट कर चुके हैं और पाकिस्तान को गैस देने की बजाय यूरोपीय देशों को गैस दे रहे हैं, जिससे उन्हें भारी मुनाफा हो रहा है। इससे पाकिस्तान की अब वही हालत हो गई है, जिससे बचने के लिए उसने गैस की तरफ रुख किया था।

सब्सिडी खत्म करने का दबाव
पाकिस्तान सरकार ने पिछले महीने ईद पर खुद को अंधेरे से बचाने के लिए १० करोड़ डॉलर का भुगतान किया था, ताकि बाजार से एलएनजी से लदा जहाज मंगवाया जा सके। वो भी तब जब पाकिस्तान गरीबी के दौर से गुजर रहा है। इस साल जुलाई में वित्तीय वर्ष के अंत तक देश का कुल एलएनजी खर्च ५ अरब डॉलर तक पहुंच सकता है, जो एक साल पहले की कीमत से दोगुना है। इसके बाद अब आईएमएफ ने सरकार पर ऊर्जा और बिजली पर दी जा रही सब्सिडी को खत्म करने का दबाव बनाया है।

१२ घंटे कट रही बिजली
अब पाकिस्तान के हालात ऐसे हो गए हैं कि कई इलाकों में १२ घंटे बिजली कट रही है। इस वजह से भीषण गर्मी में लोगों की हालत बद से बदतर होती जा रही है। साथ ही इमरान खान भी अब शहबाज सरकार पर सवाल उठा रहे हैं। वो बढ़ती महंगाई और बिजली कटौती को लेकर बड़ी रैलियां कर रहे हैं, जिससे शहबाज शरीफ की सरकार की स्थिरता को भी खतरा है। उन्होंने माना है कि लोग संकट के समय से गुजर रहे हैं। अब उन्होंने अंतरराष्ट्रीय बाजार से महंगी गैस खरीदने का ऑर्डर दिया है, जबकि एलएनजी की कीमतें बढ़ रही हैं, यूरोप के अमीर देश इसे खरीदना जारी रखते हैं।

अन्य समाचार