मुख्यपृष्ठनए समाचार३३ सालों के बाद भी कश्मीरी पंडितों की घर वापसी के लिए...

३३ सालों के बाद भी कश्मीरी पंडितों की घर वापसी के लिए सुरक्षित क्षेत्रों में फ्लैट्स का सहारा

सुरेश एस डुग्गर / जम्मू
कश्मीर से पलायन करने के ३३ सालों बाद भी कश्मीरी पंडितों की कश्मीर वापसी के लिए जो प्रयास किए जा रहे हैं, उन्हें सुरक्षित क्षेत्रों में फ्लैट्स का ही सहारा है। अर्थात अनुच्छेद ३७० हटाए जाने के बाद शांति लौट आने के दावों के बावजूद उनकी वापसी कहीं दिख नहीं रही है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि कश्मीर अभी भी हिंसा से जूझ रहा है, जिसमें आतंकी हिंसा के कारण प्रतिदिन औसतन एक मौत हो रही है।

कश्मीर में विस्थापित कश्मीरी पंडितों, सरकारी कर्मचारियों और अन्य नागरिकों की समस्या काफी पुरानी है। लंबे समय से प्रयास किए जा रहे हैं कि इन लोगों को फिर से कश्मीर में बसाया जाए। सरकार के मुताबिक, इन लोगों के लिए सरकार की ओर से फ्लैट्स भी बनाए जा रहे हैं। दो दिन पहले सरकार ने संसद में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा है कि पिछले ३ सालों में ८८० फ्लैट्स तैयार भी हो गए हैं।

हालांकि, फ्लैट्स उन कश्मीरी पंडितों को दिए जा रहे हैं, जिनमें से अधिकतर कश्मीर में सरकारी नौकरी करने को राजी हैं। पर यह बात अलग है कि पिछले कुछ सालों में कश्मीरी पंडितों को टारगेट किए जाने वाले हमलों के कारण कश्मीरी पंडित इन फ्लैट्स में भी अपने आपको सुरक्षित महसूस नहीं कर पा रहे हैं।  दरअसल, कश्मीर घाटी में १९९० में हुई हिंसा के चलते हजारों लोगों को घाटी छोड़नी पड़ा था। इसमें से ज्यादातर लोग कश्मीरी पंडित थे। बाद में केंद्र सरकार ने इन कश्मीरी पंडितों को वापस बसाने के लिए प्रधानमंत्री पुनर्वास योजना के तहत सरकारी नौकरी देनी शुरू की। इन नौकरियों के तहत आए लोगों को काफी दिनों तक शेयरिंग वाले रूम और खराब सुविधाओं के साथ रहना पड़ता था। इसी को ध्यान में रखते हुए ट्रांजिट हाउस योजना शुरू की गई। कश्मीर में विस्थापित कश्मीरी पंडितों, सरकारी कर्मचारियों और अन्य नागरिकों की समस्या काफी पुरानी है। लंबे समय से प्रयास किए जा रहे हैं कि इन लोगों को फिर से कश्मीर में बसाया जाए।

कश्मीरी पंडितों के संगठन पनुन कश्मीर के नेताओं के बकौल, कश्मीर अभी भी असुरक्षित है। दावे चाहे जितने भी करें सुरक्षित माहौल नहीं दिख रहा है। हालांकि, वे वितस्ता अर्थात जेहलम के किनारे एक अन्य केंद्र शासित प्रदेश स्थापित करने की मांग लंबे अरसे से कर रहे हैं, ताकि वे उसमें सुरक्षित तौर पर रह सकें। पर सरकारी फ्लैट्स में भी अब भयभीत होने वाले कश्मीरी पंडितों को लगता नहीं है कि उनके लिए बसाए जाने वाला अलग शहर भी सुरक्षित हो पाएगा।

कश्मीर घाटी में सुरक्षा के हालात में सुधार के दावों के बावजूद सरकार कश्मीरी पंडितों को उनके घरों में वापस लौटाने में अक्षम साबित हुई तो उसने ६,००० ट्रांजिट हाउस बनाने का काम शुरू किया है। ये घर उन कश्मीरी प्रवासियों के लिए बनाए जा रहे हैं, जो घाटी में लौट रहे हैं। पिछले ३ सालों में इस तरह के ८८० फ्लैट बनाकर तैयार भी किए जा चुके हैं। बता दें कि ट्रांजिट हाउस बारामुल्ला, बांडीपोरा, गंदरबल और शोपियां में बनाए जा रहे हैं। सरकार के मुताबिक, इन लोगों के लिए सरकार की ओर से फ्लैट भी बनाए जा रहे हैं। सरकार ने संसद में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा था कि पिछले ३ सालों में ८८० फ्लैट तैयार भी हो गए हैं।

अन्य समाचार