मुख्यपृष्ठसमाचारबाहरी गुंडों ने सरकारी आशीर्वाद से किया राड़ा... सत्ताधारियों की मस्ती उतारेगी...

बाहरी गुंडों ने सरकारी आशीर्वाद से किया राड़ा… सत्ताधारियों की मस्ती उतारेगी जनता!

-नेता प्रतिपक्ष की चिपलून मामले में चेतावनी विजय वडेट्टीवार को विश्वास

-राड़ा संस्कृति को सरकार बढ़ावा दे रही है

-राज्य में कानून-व्यवस्था चरमराई

सामना संवाददाता / मुंबई

चिपलून में सरकार के आशीर्वाद से बाहरी गुंडों को बुलाकर राड़ा किया गया। सरकार द्वारा राड़ा संस्कृति को बढ़ावा दिया जा रहा है। महाराष्ट्र की सभ्य राजनीतिक परंपरा का सत्ताधारी द्वारा बार-बार मजाक उड़ाया जा रहा है, इसलिए राज्य में कानून-व्यवस्था खतरे में है। ऐसा इसलिए किया गया है, क्योंकि सत्ताधारी जनप्रतिनिधियों को सत्ता की मस्ती है। यह मस्ती जनता उतारेगी, ऐसा विश्वास प्रतिपक्ष के नेता विजय वडेट्टीवार ने व्यक्त किया है।
उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र की छवि खराब हो रही है, क्योंकि सत्तारूढ़ जनप्रतिनिधि बार-बार समाज के लिए हानिकारक कृत्य कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने जनप्रतिनिधियों की बुर्का पहनकर आतंक मचाने की प्रवृत्ति की निंदा की है। वडेट्टीवार ने कहा कि राज्य में कोई कानून व्यवस्था नहीं है। सत्ताधारी विधायक ने थाने पर फायरिंग कर दी। वरिष्ठ पत्रकार निखिल वागले पर पुलिस के सामने भीड़ ने जानलेवा हमला किया। अब चिपलून में सत्ताधारी जनप्रतिनिधि पुलिस के सामने राड़ा किया, जिसमें आम लोगों के साथ पुलिसकर्मी भी घायल हुए। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पुलिस पर सत्ता के दबाव के कारण पुलिस को तमाशबीन की भूमिका निभानी पड़ी। सरकार को चाहिए कि वह जनप्रतिनिधियों को बुर्का पहनाकर आतंक पैदा करने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाए। अन्यथा राज्य में गंभीर स्थिति उत्पन्न हो जाएगी। इसकी पूरी जिम्मेदारी सरकार की होगी। वैâसे कर्नाटक में सत्ता में मस्ती में आए भाजपा के तत्कालीन मुख्यमंत्री को आम नागरिकों ने पीटा था, जिसे पूरे देश ने देखा है। महाराष्ट्र में ऐसी स्थिति पैदा न हो, इसके लिए सरकार को समय रहते सावधानी बरतनी चाहिए।
उम्मीद है कि चिपलून में शांति भंग करने की कोशिश करनेवालों के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी, लेकिन ऐसा न करके इन गैंगस्टर्स का समर्थन कर रही है। पुलिस एकतरफा कार्रवाई कर रही है। यह चिपलून की संस्कृति को खराब करने का प्रयास है। मुंबई-गोवा राष्ट्रीय राजमार्ग पर विधायक भास्कर जाधव के संपर्क कार्यालय के सामने जानबूझकर हंगामा किया गया। इसके लिए बाहर से गैंगस्टर और हथियार मंगाए गए थे। ये सब किसके आशीर्वाद से शुरू हुआ है। यह तो सर्वविदित है, इसलिए पुलिस प्रशासन से सख्त कार्रवाई करने की भी मांग वडेट्टीवार ने की।
चिपलून में भी पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। इस पथराव में कुछ लोगों के सिर, हाथ और मुंह पर गंभीर चोटें आईं। भीड़ को तितर-बितर करने के दौरान एक पत्रकार को भी लाठियां लगीं। इस लाठीचार्ज में उसका हाथ गंभीर रूप से घायल हो गया। हाइवे पर खड़ी गाड़ियों की तोड़-फोड़ की गई। आम जनता को घेर लिया गया। इस मामले में बिना भेदभाव के दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए, ऐसी मांग वडेट्टीवार ने की।

अन्य समाचार