मुख्यपृष्ठनए समाचारभाजपा नेताओं में दिखी गुटबाजी ...फडणवीस इन, तावड़े आउट, बावनकुले फुस्स!

भाजपा नेताओं में दिखी गुटबाजी …फडणवीस इन, तावड़े आउट, बावनकुले फुस्स!

•  नेताओं में वर्चस्व की लड़ाई चरम पर
• फडणवीस ने बावनकुले को दिया झटका, कहा टीम तो बनाई लेकिन काम की नहीं
रामदिनेश यादव / मुंबई
भाजपा भले ही आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में भारी जीत का दम भर रही है, लेकिन उसकी स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। उसके वरिष्ठ नेताओं के बीच पार्टी में वर्चस्व को लेकर शुरू गुटबाजी चरम पर दिख रही है। जहां एक ओर राज्य में भाजपा के सर्वेसर्वा समझने वाले उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से कई नेताओं में खुन्नस देखने को मिल रही है तो वहीं दूसरी ओर फडणवीस और पार्टी के अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले के बीच बात बनती नहीं दिख रही है। यही वजह है कि भरी सभा में भी फडणवीस बावनकुले को नीचा दिखाने से नहीं चूकते हैं। मंगलवार को दादर स्थित भाजपा के वसंत स्मृति सभागृह में आयोजित प्रदेश भाजपा कार्यकारिणी की बैठक में यह बात साफ देखने को मिली।
कार्यकारिणी में मामला तो यहां तक आ गया कि फडणवीस के आने की सूचना मिलते ही वहां से भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विनोद तावड़े निकल लिए और जब फडणवीस आए तो उनके विरोधी खेमे का एक भी नेता अगल-बगल नजर नहीं आया। उधर फडणवीस ने मौजूदा प्रदेश भाजपा टीम को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि पद की प्रतिष्ठा रखना जरूरी है। उन्होंने मंच पर ही बैठे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले को मंच पर नीचा दिखाने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि मौजूदा टीम में लोग काम नहीं कर रहे हैं। अध्यक्ष ने भारी-भरकम टीम बनाई है, लेकिन इनके काम नहीं दिख रहे हैं, जिसके बाद अध्यक्ष का चेहरा ही उतर गया। एक तरह से बावनकुले की पूरी मेहनत फुस्स हो गई।
बता दें कि फडणवीस का यह बर्ताव नया नहीं है। महाराष्ट्र में फडणवीस, तावड़े, आशीष शेलार और बावनकुले के बीच वर्चस्व की लड़ाई शुरू है। चारों नेता एक-दूसरे को ज्यादा पसंद नहीं करते हैं। इनके समर्थक भी अपने नेताओं के धुर विरोधी खेमे में शामिल नहीं होते हैं। इसके अलावा शिवसेना से गद्दारी कर भाजपा के साथ आए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और राकांपा से अलग होकर आए अजीत पवार के बीच भी तनातनी चल रही है। ऐसे में भाजपा की नैया मझधार में जाती दिख रही है।

अन्य समाचार