मुख्यपृष्ठनए समाचारदेश के पंद्रह फीसदी क्राइम सिर्फ यूपी में! कांग्रेस ने लगाए आरोप

देश के पंद्रह फीसदी क्राइम सिर्फ यूपी में! कांग्रेस ने लगाए आरोप

कांग्रेस ने तानी योगी सरकार पर त्यौरी

विक्रम सिंह/सुल्तानपुर

केंद्र सरकार द्वारा जारी एनसीआरबी के आंकड़े में उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराधों को लेकर कांग्रेस पार्टी ने यूपी सरकार की बदहाल कानून व्यवस्था महिलाओं पर बढ़ते अपराध, कुख्यात अपराधियों की गिरफ्तारी न होने व प्रदेश भर में आए दिन हो रहीं ‘मुठभेड़ों’ को लेकर मोर्चा खोल दिया है । मंगलवार को जिला कांग्रेस कमेटी में अध्यक्ष अभिषेक सिंह राणा ने वरिष्ठ कांग्रेसियों की मौजूदगी में पत्रकार वार्ता कर प्रदेश की बदहाल कानून व्यवस्था, पुलिस द्वारा किए जा रहे फर्जी एनकाउंटर्स व वाराणसी में छात्रा के साथ गैंगरेप मामले में भाजपा में शामिल युवाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर यूपी सरकार पर तीखे प्रहार किए । जिलाध्यक्ष राणा ने कहा, आज पूरा प्रदेश अपराध की आग में जल रहा है। अपराधी बेखौफ होकर प्रतिदिन जघन्य वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। देश में होने वाले अपराधों में १५ प्रतिशत केवल उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं। हालात बद से बदतर हैं। यह आंकड़े एनसीआरबी की रिपोर्ट पर आधारित हैं। प्रदेश की दो बड़ी घटनाओं पर नजर डालें तो पहली घटना प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की है, जहां बीते २ नवंबर को आईआईटी की छात्रा को तीन लड़कों द्वारा जबरन ‘गनपॉइंट’ पर दुष्कर्म करते हुए उसकी नग्न अवस्था का वीडियो बनाया गया। वारदात को अंजाम देकर आरोपी फरार हो गए। अगले ही दिन कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने आरोप।लगाया कि इस दुष्कृत्य में भाजपा के लोग शामिल हैं । बीएचयू के छात्र-छात्राओं ने इस घटना को लेकर सड़क पर उतरकर प्रदर्शन भी किया। इसके बाद न्याय की आवाज को दबाने के लिए अजय राय पर वाराणसी की पुलिस द्वारा सत्ता के इशारे पर एफआईआर कर दी गई । दिनांक ५ नवंबर को सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान की गई। ८ नवंबर को पीड़िता द्वारा भी इसकी पुष्टि की गई। आरोपियों की पुष्टि होते ही भाजपा आरोपियों को बचाने में जुट गई और आनन फानन उन्हें मध्य प्रदेश चुनाव में शामिल होने के लिए भेज दिया गया । दो महीने तक योगी सरकार की वाराणसी पुलिस मौन साधे रही । पुलिस द्वारा पांच राज्यों के चुनाव के समाप्ति के बाद कांग्रेस पार्टी और छात्रों के दबाव में आखिरकार उन तीनों आरोपियों को पुलिस को गिरफ्तार करना पड़ा।इस बीच भाजपा के आईटी सेल द्वारा भाजपा में शामिल आईटी सेल के आरोपियों की प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत कई भाजपा नेताओं के साथ एक्स पर पोस्ट व फोटो डिलीट कर दिया गया, यह अपने आप में बड़े शर्म की बात है । और इस घटना के लिए पीएम को देश की बेटियों से माफी मांगनी चहिए।इनके बेटी बचाओ के नारे तार तार हो चुके हैं । महिलाओं को लेकर जितने भी अपराध हो रहे हैं अधिकतर मामलों में भाजपा से जुड़े लोगों की संलिप्तता पाई गई है । वही बीते वर्षों में भाजपा की योगी सरकार में पुलिस ने लगभग पौने दो सौ एनकाउंटर को अंजाम दिया है। पुलिस द्वारा इतनी मात्रा में जो एनकाउंटर किए गए उसमें भाजपा से जुड़े अपराधियों को तो जीवनदान दिया गया, वही जो भाजपा के खिलाफ रहे उन्हें मार दिया गया । गोरखपुर में पिछले कई वर्षों से सीएम योगी की राजनैतिक चुनौती बने विनोद उपाध्याय को भी जिले में फर्जी एनकाउंटर के तहत मार गिराया गया । कॉंग्रेस पार्टी बुधवार को राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन के माध्यम से इन सभी घटनाओं की न्यायिक जांच करने की मांग करेगी। पत्रकार वार्ता में वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक शिवनारायण मिश्रा, हरीश त्रिपाठी, शहर अध्यक्ष शकील अंसारी, लक्ष्मीकांत मिश्र, सुनील सिंह चौहान प्रदेश सचिव राहुल त्रिपाठी, नफीस फारुकी, पवन मिश्रा कटावा, प्रेम भारती, महेंद्र सिंह शाहबाज खान, कुर्बान अंसारी, इमरान,कैप्टन उमाकांत तिवारी आदि लोग मौजूद रहे।

अन्य समाचार