मुख्यपृष्ठनए समाचारनामीबिया से आएंगे पचास चीते!

नामीबिया से आएंगे पचास चीते!

सामना संवाददाता / मुंबई। देश में चीतों के स्वागत की तैयारी पूरी कर ली गई है। मई २०२२ तक इन चीतों के नामीबिया से आने की संभावना है। पहले चरण में मध्य प्रदेश के कुनो से तीन से पांच चीते आनेवाले हैं, जिन्हें अगस्त तक जंगल में छोड़े जाने की संभावना है। भारत में चीता लाने की मुहर लगने के बाद वरिष्ठ अधिकारी महीने भर पहले नामीबिया गए थे। इसमें राष्ट्रीय व्याघ्र संवर्धन प्राधिकरण, केंद्रीय पर्यावरण, मानसून परिवर्तन विभाग के अधिकारियों के साथ महाराष्ट्र के प्रधान सचिव, प्रधान मुख्य वन संरक्षक का समावेश था। इस अवसर पर भारत में आनेवाले चीतों का निरीक्षण करके उसे स्थानांतरित करने के संबंध में समीक्षा की गई। नामीबिया के साथ करार का मसौदा तैयार किया गया। भारत के वन्यजीव शाश्वत उपयोग के लिए नामीबिया समर्थन दे, ऐसी शर्त करार में की गई है। इस करार को अंतिम स्वरूप देने के लिए फिलहाल बातचीत शुरू है। मार्च के अंत तक करार को अंतिम रूप मिलेगा और उस पर हस्ताक्षर होंगे, ऐसी अपेक्षा व्यक्त की जा रही है। नामीबिया सरकार द्वारा चीता संवर्धन निधि स्वयंसेवी संस्था की ओर से भारत को चीते दिए जाएंगे। भारत में गत नवंबर महीने में चीते आनेवाले थे, इसके लिए तैयारी की गई थी लेकिन कोरोना के कारण नहीं आ सके। नामीबिया से करार के बाद भारत में चीते किस मार्ग से आएंगे, इन्हें भारतीय वन्य जीव संस्था के अधिकारियों की मदद से लाया जाएगा।

अन्य समाचार