मुख्यपृष्ठटॉप समाचारलड़ाई है चरम पर... लड़ाके सैनिक शिवसेना में... परिवर्तनवादी कार्यकर्ता सुषमा अंधारे शिवसेना...

लड़ाई है चरम पर… लड़ाके सैनिक शिवसेना में… परिवर्तनवादी कार्यकर्ता सुषमा अंधारे शिवसेना में शामिल

  • पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने सौंपी उपनेता पद की जिम्मेदारी

सामना संवाददाता / मुंबई
फुले -शाहू-आंबेडकर विचारधारा के परिवर्तनवादी आंदोलन की कार्यकर्ता सुषमा अंधारे कल अपने सहयोगियों के साथ शिवसेना में शामिल हो गईं । इस मौके पर शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने उनका स्वागत करते हुए कहा कि लड़ाई अपने चरम पर है, ऐसे समय में लड़ाके सैनिक शिवसेना में आए हैं। पूजा होती है तो प्रसाद के लिए सभी आते हैं। लेकिन मुश्किल घड़ी में जो लोग कंधे से कंधा मिलाकर उतरते हैं और साथ रहते हैं, उनका महत्व जीवन भर रहता है। उन्होंने आह्वान किया कि आम लोगों को न्याय और अधिकार दिलानेवाली शिवसेना को हमें आगे ले जाना है। उद्धव ठाकरे ने सुषमा अंधारे को पार्टी के उपनेता की जिम्मेदारी सौंपी है।
सुषमा अंधारे कल ‘मातोश्री’ आवास पर शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में शिवसेना में शामिल हुर्इं। शिवसेना की उपनेता व विधायक नीलम गो‍र्हे ने सुषमा अंधारे को शिवबंधन बांधा। इस अवसर पर शिवसेना नेता व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे भी उपस्थित थे। पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे को सुषमा अंधारे और उनके सहयोगियों ने प्रबोधनकार ठाकरे की एक तस्वीर भेंट की। उद्धव ठाकरे ने मार्गदर्शन करते हुए कहा कि शिवसेना का हिंदुत्व एक राष्ट्रीयता है। शिवसेनाप्रमुख की भाषा और शिवसेना के हिंदुत्व से आश्वस्त होने के बाद वर्तमान विधान परिषद के उपसभापति नीलम गोर्हे २६ साल पहले शिवसेना में शामिल हुर्इं। शिवसेना की ईमानदार कार्यकर्ता के रूप में वे लड़ाई में उतरती हैं। इसी तरह सुषमाताई और उनके सहयोगी शिवसेना के विचारों से सहमत होकर बिना कोई पर्दा रखे खुलेआम शिवसेना में शामिल हुए हैं।
उद्धव ठाकरे ने कहा कि फिर से सामान्य लोगों में से असामान्य नेतृत्व तैयार करने का समय आ गया है। हमने जिन लोगों को बड़ा किया, वे उस किनारे चले गए। इसलिए राज्य की जनता के मन में तूफान उठ खड़ा हुआ है। शिवसेनाप्रमुख और शिवसेना ने कई सामान्य लोगों को असामान्य बना दिया। असामान्य लोग फिर से सामान्य होने चले गए हैं।
देश में लोकतंत्र कब तक जिंदा रहेगा?
यह सुप्रीम कोर्ट का फैसला तय करेगा 
पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि संवैधानिक लड़ाई महत्वपूर्ण है। इसी तरह देश में लोकतंत्र को बचाना बहुत जरूरी है। चाहे आप प्रगतिशील हों या प्रतिगामी। अगर लोकतंत्र नहीं होगा, तो ये सभी को दफन कर देंगे। अभी भी दो लड़ाई चल रही है। सुप्रीम कोर्ट में एक कानूनी लड़ाई चल रही है, जिसके बारे में मैं बात नहीं करना चाहता। कानूनी क्या है, इस बारे में कई संवैधानिक विशेषज्ञों ने अपनी राय दी है। यह फैसला  केवल शिवसेना के भाग्य का पैâसला नहीं होगा। यह इस बात का परिणाम होगा कि देश में लोकतंत्र कब तक जीवित रहेगा और कितना मजबूत होगा।
असली शिवसेना का पुनर्निर्माण किया जा रहा है
पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने अप्रत्यक्ष रूप से बागी विधायकों पर हमला बोलते हुए कहा कि गैर-मौजूद शिवसेना का मजाक उड़ाया जा रहा है। मैंने असली शिवसेना का पुनर्निर्माण शुरू कर दिया है। मैं कई कार्यकर्ताओं, पुरुषों और महिलाओं को जिम्मेदारियां दे रहा हूं। मुझे ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को भी संगठन की जिम्मेदारी सौंपनी है। इसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों में महिला और पुरुषों की नई नियुक्तियां की जाएंगी।
प्रशांत सुर्वे भी शिवसेना में शामिल
सांसद भावना गवली के तलाकशुदा पति प्रशांत सुर्वे भी कल शिवसेना में शामिल हो गए। सुषमा अंधारे सहित किरण जठार, वंचित आघाड़ी के अतुल नागरे, लियाकत जुगारी, मयूर देवराव, अभिजीत खरात, अमर सालवे, महेश वसंत, महेश राऊत, गिरीश दीवानजी, राजेश जाधव, सुनील जाधव, कीर्तिराज लोखंडे, प्रो. प्रशांत बचुटे, प्रीतम जाधव, मयूर देवराव, अविनाश पवार, महेश जाधव, अमर ससवने, अभिजीत खरात आदि ने शिवसेना में प्रवेश किया। इस मौके पर शिवसेना के उपनेता व सांसद अरविंद सावंत, विधायक सचिन अहीर समेत शिवसैनिक मौजूद थे।
संविधान बचाने, भाजपा के खिलाफ लड़ना है- सुषमा अंधारे
कल से मुझसे पूछा जा रहा है कि शिवसेना में मुझे लाभ का कौन सा पद मिलेगा? मैंने उनसे कहा, मेरे सिर पर ईडी की फाइलों का बोझ नहीं है और न ही मैंने कोई गलत काम किया है‌। अगर मुझे शिवसेना में जगह चाहिए तो मैं चाहती हूं कि शिवसैनिकों के दिल में उनकी बहन के रूप में मुझे प्यार मिले। जोर से गला फाड़कर रोने और फिर दूसरे समूह में शामिल होना, ऐसा काम मुझसे नहीं होगा। मुझे पार्टी से कोई अपेक्षा नहीं है। उद्धव ठाकरे मेरे भाई हैं और उनके साथ वंâधे से कंधा  मिलाकर लड़ने के लिए शिवसेना में शामिल हुई हूं। वह देश का संविधान बचाने के लिए भाजपा के खिलाफ लड़ना चाहती हैं।

अन्य समाचार