मुख्यपृष्ठनए समाचार‘पहले जेल में डालने की धमकियां अब गलबहियां’ ...७० हजार करोड़ के...

‘पहले जेल में डालने की धमकियां अब गलबहियां’ …७० हजार करोड़ के सबूतों से भरी बैलगाड़ी कहां गई?

सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य का नेतृत्व करनेवाले व्यक्ति को आज गद्दारी करनेवाले व्यक्ति के कंधे से कंधा मिलाकर काम करना पड़ रहा है। देवेंद्र फडणवीस जिस अजीत पवार के खिलाफ सत्तर हजार करोड़ रुपए के भ्रष्टाचार के सबूतों से भरी बैलगाड़ी लानेवाले थे। जेल में डालने की धमकियां दे रहे थे, आज उन्हीं अजीत दादा को कंधों पर बिठाकर चल रहे हैं, ऐसे शब्दों में विधान परिषद विरोधी दल नेता अंबादास दानवे ने भाजपा और फडणवीस पर निशाना साधा है।
लोकसभा चुनाव के लिए चाहे कितना भी जोर लगा लें, उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना ही जीतेगी, ऐसा विश्वास विधानसभा प्रतिपक्ष के नेता अंबादास दानवे ने व्यक्त किया है। शिंदे गुट लड़े या भाजपा लड़े, हमें इसकी कोई परवाह नहीं है। वे उद्धव ठाकरे के नेतृत्व के आगे दफन हो जाएंगे, ऐसा कहते हुए दानवे ने शिंदे गुट पर निशाना साधा। इस अवसर पर दानवे ने केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री भागवत कराड पर भी तंज कसा। डॉ. भागवत कराड एक अच्छे इंसान हैं, लेकिन वे नेता नहीं हैं। वे अच्छे डॉक्टर, अच्छे बाल रोग विशेषज्ञ हैं। परंतु नेतृत्व नहीं कर सकते हैं, ऐसे शब्दों में उन्होंने कराड पर तंज कसा। अंबादास दानवे ने आगे कहा कि शिंदे गुट में विधायकों की अयोग्यता के मामले में कार्रवाई के नाम पर अभी तक कुछ नहीं हुआ, इस तरफ जनता का ध्यान लगा हुआ है। आनेवाले चुनाव में जनता भाजपा को सबक सिखाएगी, ऐसा भी उन्होंने कहा। पुलिस पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि अगर पुलिस सरकार की ‘गुलाम’ और नौकर हो जाए तो आम जनता सही समय पर न्याय करेगी।
भाजपा ज्यादा से ज्यादा ग्राहक बढ़ाने की कोशिश कर रही है और पुराने लोगों को कहीं स्टोर करने की कोशिश में है। सारे नए चेहरे हैं। मूल लोग उंगुली पर गिने जाने भर हैं, भाजपा को बड़ा करनेवाले लोग कहां है? यह आम कार्यकर्ताओं के साथ अन्याय है, ऐसा कहते हुए उन्होंने भाजपा की आलोचना की। भाजपा में किस-किस के टोल नाके हैं, यह जनता को मालूम है, आनेवाले समय में यह सामने आएगा। कल केंद्र से कैग की रिपोर्ट आई है, जिसमें सरकार के घोटालों का पर्दाफाश हुआ है, ऐसी चेतावनी दानवे ने दी है।

अन्य समाचार