मुख्यपृष्ठनए समाचाररास्ते दुरुस्त करो, केबल हटाओ बाप्पा आनेवाले हैं! ... मनपा आयुक्त का अधिकारियों...

रास्ते दुरुस्त करो, केबल हटाओ बाप्पा आनेवाले हैं! … मनपा आयुक्त का अधिकारियों को निर्देश

• गणेशोत्सव की तैयारियों में जुटी मनपा
सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र की संस्कृति के रूप में प्रसिद्ध गणेशोत्सव का त्योहार नजदीक आते देख मनपा अपनी तैयारियों में जुट गई है। मनपा आयुक्त की अगुवाई में तमाम बैठकें आयोजित हो रही हैं। चूंकि पिछले २ वर्षों से कोरोना के चलते मुंबई सहित महाराष्ट्र में गणेश उत्सव का त्योहार धूमधाम से नहीं मनाया जा सका। अब कोरोना लगभग खत्म हो गया है तो इस बार गणेश उत्सव का त्योहार पूरे जोश और जश्न के साथ मनाया जाएगा। गणेश भक्तों में भी खूब उत्साह दिख रहा है इसलिए मनपा ने इस त्योहार को लेकर खास तैयारियां शुरू की हैं। मनपा आयुक्त ने मुंबई की सड़क के रास्ते दुरुस्त करने, सड़कों से गड्ढे हटाने, फुटपाथ दुरुस्त करने, रास्ते में खंभों पर लटके केबल को हटाने आदि विषयों को लेकर अधिकारियों को निर्देश दिया।

आयुक्त ने की समन्वय बैठक
मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने मनपा क्षेत्र में गणेशोत्सव समन्वय बैठक ली। इस दौरान गणपति बाप्पा के आगमन से लेकर उनके मूर्ति विसर्जन में होने वाली तमाम प्रबंधन व्यवस्था पर अधिकारियों से अपडेट लिए और बचे हुए कार्यों को जल्द गति से पूरा करने के निर्देश दिए। इस मौके पर मनपा के सभी अतिरिक्त आयुक्त संबंधित विभाग के उपायुक्त, वॉर्डों के सहायक आयुक्त, संबंधित अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

आपस में करें समन्वय
मनपा ने सभी २४ वॉर्डों में गणेशोत्सव के लिए अलग-अलग समन्वय अधिकारी नियुक्त करने का निर्देश दिया है। सभी महत्वपूर्ण विसर्जन स्थलों पर मनपा द्वारा चिकित्सा जांच और प्राथमिक चिकित्सा कक्ष शुरू किया जाएगा। जिस रास्ते से बाप्पा का आगमन और मूर्ति विसर्जन होना है। उस रास्ते पर गड्ढे तुरंत भरे जाएं, सड़क दुरुस्त होनी चाहिए। इसके लिए वॉर्ड अधिकारी व गणेशोत्सव समिति का समन्वय अधिकारी आपस में समन्वय करें।

वैकल्पिक मार्ग सुझाएं
बाप्पा के मूर्ति विसर्जन के दौरान भक्तों को शौच की व्यवस्था भी जगह-जगह उपलब्ध हो, शौचालय की स्वच्छता और सुव्यवस्था जरूरी है। जरूरत के अनुसार अस्थायी शौचालय की व्यवस्था उपलब्ध कराई जाए। रास्ते में केबल के तार को हटाया जाए तथा जिस पुल की ऊंचाई कम हो उस पुल के नीचे से बड़ी गणपति मूर्तियों को न जाने दें, बल्कि वैकल्पिक मार्ग सुझाएं।

अन्य समाचार