मुख्यपृष्ठनए समाचारअसम-मेघालय में बाढ़ से मचा हाहाकार! अब तक ३१ लोगों की मौत

असम-मेघालय में बाढ़ से मचा हाहाकार! अब तक ३१ लोगों की मौत

अगरतला में बारिश ने तोड़ा ६० साल का रिकॉर्ड

सामना संवाददाता / गुवाहटी

देश में एक तरफ जहां भीषण गर्मी तपा रही है, वहीं दूसरी ओर असम-मेघालय में बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है। राज्य के कई हिस्सों में भारी बारिश और बाढ़ ने भीषण तबाही मचाई हुई है। असम और मेघालय में कई जगह सड़क और रेल पटरी बह गई हैं। असम बाढ़ की चपेट में है और अब तक २८ जिलों के तकरीबन १९ लाख लोग प्रभावित हुए हैं। बारिश और बाढ़ ने यहां कहर बरपा रखा है। भारी बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन से अब तक ३१ लोगों की मौत हो गई है। बाढ़ में हुए कुल हताहतों में से १२ असम में और १९ मेघालय में मारे गए हैं। जबकि एक लाख लोग राहत शिविरों में रहने को मजबूर हैं। असम में पिछले पांच दिनों से भारी बारिश हो रही है, राज्य की राजधानी में सभी प्रमुख सड़कों पर पानी भर गया है।
बता दें कि त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में भी भीषण बाढ़ की सूचना है। शहर में महज छह घंटे में १४५ मिमी बारिश हुई। त्रिपुरा उपचुनाव के लिए प्रचार भी प्रभावित हुआ है।
अधिकारियों ने बताया है कि मेघालय के चेरापूंजी में १९४० के बाद से रिकॉर्ड बारिश हुई है। सरकारी सूत्रों ने बताया कि पिछले ६० वर्षों में अगरतला में यह तीसरी सबसे अधिक बारिश है। अचानक आई बाढ़ के कारण सभी शिक्षण संस्थान बंद कर दिए गए हैं। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने बाढ़ में मारे गए लोगों के परिवारों को ४ लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की है। असम में करीब ३,००० गांवों में बाढ़ आ गई है और ४३,००० हेक्टेयर कृषि भूमि पानी में डूब गई है। कई तटबंध, पुलिया और सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं।
असम सरकार ने बाढ़ और भूस्खलन के कारण फंसे लोगों के लिए गुवाहाटी और सिलचर के बीच विशेष उड़ानों की भी व्यवस्था की है। साथ ही सीएम सरमा ने राज्य के बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद के लिए पांच लाख रुपए देनेवाले अभिनेता अर्जुन कपूर और फिल्म निर्माता रोहित शेट्टी का आभार व्यक्त किया, वहीं पड़ोसी अरुणाचल प्रदेश में सुबनसिरी नदी के पानी से बांध जलमग्न हो गया है, जहां पनबिजली परियोजना के लिए काम चल रहा था।

अन्य समाचार