मुख्यपृष्ठनए समाचारबरसाती त्योहारों में आएं गड्ढों की बाढ़! ...मनपा ने बताई वजह

बरसाती त्योहारों में आएं गड्ढों की बाढ़! …मनपा ने बताई वजह

• पाटे गए ३४,२८७ गड्ढे
•  सबसे अधिक के / ईस्ट वॉर्ड में २,९६१ गड्ढे मिले
सामना संवाददाता / मुंबई
महानगर में गड्ढों की समस्या को लेकर मनपा अभी भी दिक्कतों का सामना कर रही है। तमाम जगहों पर गड्ढे की शिकायतें लगातार मनपा को मिल रही हैं लेकिन इस बार मुंबई की सड़कों पर गड्ढे बढ़े हैं, इसकी वजह बरसात में इस बार आए त्योहार बने हैं। मनपा की एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले वर्ष की तुलना में ज्यादा बरसात होने और कई त्योहार बरसाती मौसम में पड़ने की वजह से इस बार सड़कों पर गड्ढे बढ़े हैं। इसके अलावा और भी कई कारण मनपा ने बताए हैं। हालांकि इस दौरान हाई टेक्नोलॉजी के साथ गड्ढों को पाटने के प्रयास किया गया।

क्यों हुए गड्ढे
मनपा ने गड्ढों को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें तमाम विवरण दिए गए हैं और बताया है कि मुंबई में इस बार गड्ढे आखिर क्यों बढ़ें? मनपा के अनुसार हर बार मुंबई में औसतन २,२४० एमएम बरसात होती थी लेकिन इस बार ५०० एमएम बढ़कर २,७०५ एमएम बरसात हुई, जिसके चलते मुंबई में गड्ढों की समस्या बढ़ी है। इसके अलावा सड़कों पर अवैध कब्जे होने से जगह-जगह बरसात के पानी की निकासी में दिक्कतें हुर्इं और जहां-तहां पानी जमा हुआ। उससे भी गड्ढों की संख्या में वृद्धि हुई। मनपा ने रिपोर्ट में बताया है कि इस बार त्योहार बरसात के मौसम में होने की वजह से पंडालों की ओर से जगह-जगह गड्ढे किए गए। गणेश उत्सव, रमजान और अब नवरात्रि में पंडालों की ओर से बैरियर लगाने के लिए सड़कों पर गड्ढे खोदे गए, जो बाद में बड़े गड्ढे के रूप में तब्दील हो गए।

मनपा ने भी पाटे खूब गड्ढे
गड्ढों की समस्या से मनपा ने भी खूब लड़ाई लड़ी। कोल्ड मिक्स नामक मिश्रण सभी वॉर्डों में वितरित किया। लगभग ३,३१३ मीट्रिक टन मिश्रण वितरित किया गया। मनपा ने खुद २७,००० गड्ढे पाटे, जबकि ८,४०४ गड्ढे अन्य एजेंसियों ने पाटे और ३,२८० वर्ग मीटर क्षेत्रफल को कांक्रीट से पाटा गया। इसके अलावा प्रत्येक वॉर्ड कार्यालय को डेढ़ करोड़ निधि खर्च करने की छूट दी गई। ५० लाख रुपए अतिरिक्त दिए गए। कोल्ड मिक्स सहित तमाम नई तकनीकी का मनपा ने गड्ढों की पटाई में उपयोग किया।

सबसे ज्यादा गड्ढे कहां?
मुंबई शहर में १०,३१२ गड्ढे पाटे गए। पूर्वी उपनगर में ७,८५२ गड्ढे पाटे गए, जबकि सबसे ज्यादा पश्चिमी उपनगर में १६,१३० गड्ढे पाटे गए। मनपा ने कुल ३४,२८७ गड्ढे पाटे हैं। उसी प्रकार सबसे ज्यादा के/पूर्व वॉर्ड में २,९६१ गड्ढे पाटे गए। पी/ नॉर्थ वॉर्ड में २,६९८, एल वॉर्ड में २,२१८, के/पश्चिम वॉर्ड में २,०४९, ई वॉर्ड में १,८०५, और एस वार्ड में १,५०१ गड्ढे पाए गए थे, जिन्हें मनपा ने पाट दिया। इन वॉर्डों में अधिक गड्ढे पाए गए थे।

अन्य समाचार