" /> कोरोना की किलेबंदी!…मुंबई में बढ़ेगी जांच

कोरोना की किलेबंदी!…मुंबई में बढ़ेगी जांच

 नेस्को जंबो केंद्र में बढ़े १,५०० बेड
 भायखला जंबो केंद्र के ७०० बेड होंगे ऑक्सीजनयुक्त
 ३०० बेडवाले पीडियाट्रिक कोविड केयर केंद्र होगा शुरू
 रोजाना ४० हजार लोगों की कोरोना जांच की है क्षमता

मुंबई में कोरोना की दूसरी लहर को नियंत्रित करने में मनपा सफल होती दिखाई दे रही है। इसका अंदाजा रोजाना मुंबई में कोरोना के नए मरीजों के गिरते ग्राफ से लगाया जा सकता है। इसी बीच स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने जुलाई में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना जताई है। इस तीसरी लहर की किलेबंदी करने के लिए अभी से ही मनपा पूरी तरह से जुट गई है। मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने बताया कि कोरोना की जांच में कोई कमी नहीं की गई है। मनपा अभी भी रोजाना ४० हजार लोगों की कोरोना जांच कर सकती है। इसके साथ ही जंबो कोविड सेंटर के बेड भी बढ़ाए जा रहे हैं। इसकी शुरुआत नेस्को जंबो कोविड सेंटर से की गई है। यहां १,५०० बेड बढ़ाए गए हैं, इससे यहां की क्षमता बढ़कर ३,७०० बेड की हो गई है। इसके अलावा भायखला जंबो कोविड सेंटर में भी ७०० बेड ऑक्सीजनयुक्त होनेवाले हैं, साथ ही नेस्को में ३०० बेड का पीडियाट्रिक कोविड केयर केंद्र शुरू करने की भी योजना मनपा की है।

उद्योग मंत्री के हाथों नेस्को सेंटर में १,५०० बेड का अनावरण
मनपा ने गोरेगांव स्थित नेस्को जंबो कोविड सेंटर में १,५०० नए बेड्स को शामिल किया है। यहां एक हजार बेड ऑक्सीजनवाले और बाकी साधारण बेड्स की व्यवस्था है। सोमवार को राज्य के उद्योगमंत्री सुभाष देसाई ने नेस्को सेंटर में नए बेड्स के कक्ष का उद्घाटन किया। फिलहाल २०० बेड्स का उपयोग शुरू हो चुका है। इसके साथ ही गोरेगांव नेस्को जंबो कोविड सेंटर में कोरोना मरीजों के लिए बेड की कुल क्षमता ३,७०० हो गई है।
इस मौके पर उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने कहा कि कोरोना को मात देने के लिए मरीजों का सही और समय पर इलाज जरूरी है। कोरोना सेंटर पर मरीजों को बेड्स उपलब्ध होने से उनका इलाज बेहतर होता है।
उन्होंने बताया कि यहां २५० से ३०० बेड्स को मिलाकर एक कक्ष बनाया गया है। प्रत्येक कक्ष में २४ घंटे स्वास्थ्य देखभाल के लिए वरिष्ठ डॉक्टर तैनात किए गए हैं। खाने-पीने, दवाई आदि की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि फिलहाल २०० बेड्स को एक्टिव किया है। जैसे-जैसे मरीज आएंगे, वैसे-वैसे बाकी के बेड्स एक्टिव हो जाएंगे।
प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रत्येक कक्ष में स्टाफ तैनात किया गया है। यहां कुल सभी सभी नए कक्षों के लिए कुल १,१०० कर्मचारी तैनात किए गए हैं। ५० सीनियर कंसल्टेंट हैं। १६० डॉक्टर, ३२० नर्स, ४५० सहायक कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं।