मुख्यपृष्ठनए समाचारमेडिकल कॉलेजों के अस्पतालों में होगा मुफ्त इलाज कैबिनेट की मंजूरी मिलने...

मेडिकल कॉलेजों के अस्पतालों में होगा मुफ्त इलाज कैबिनेट की मंजूरी मिलने में हो रही देरी! … चिकित्सा शिक्षा विभाग ने तैयार किया है प्रस्ताव

सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के आधिपत्य वाले अस्पतालों में इलाज पूरी तरह से मुफ्त हो गया है। इसके बाद सरकारी मेडिकल कॉलेजों से संबद्ध राज्य के २९ अस्पतालों में चिकित्सा उपचार और सेवाएं मुफ्त प्रदान की जाएंगी। इसे लेकर चिकित्सा शिक्षा विभाग ने प्रस्ताव तैयार किया है, बस कैबिनेट की मंजूरी में देरी है।
उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के अधीन आनेवाले सभी सरकारी अस्पतालों में मरीजों की फीस, जांच और विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए न्यूनतम दरें ली जाती थीं। इसके अलावा कम वार्षिक आय वाले मरीजों को अलग-अलग छूट दी जाती थी। हालांकि, इस बीच राज्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के आधिपत्य वाले अस्पतालों में १५ अगस्त से इलाज पूरी तरह से मुफ्त कर दिया गया है। इसे लेकर हाल ही में शासनादेश जारी कर दिया गया है। इस योजना से प्रदेश के सभी नागरिक लाभान्वित हो रहे हैं। फिलहाल, यह निर्णय मेडिकल कॉलेजों से संबद्ध अस्पतालों पर लागू नहीं है। यहां जटिल सर्जरी, विभिन्न जांचें की जाती हैं। उनमें से कुछ मरीजों का ही मुफ्त में इलाज किया जाता है, जबकि अधिकांश मरीजों से मध्यम शुल्क वसूल कर उपचार किया जाता है, जबकि कुछ मरीजों को कुछ उपचारों और परीक्षाओं के लिए भुगतान करना पड़ता है। हालांकि, इस बीच चिकित्सा शिक्षा विभाग ने प्रदेश के हर नागरिक को अच्छा इलाज मिल सके, इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रणाधीन सभी सरकारी अस्पतालों में मुफ्त इलाज उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है।
राज्य में हैं २७ सरकारी और तीन डेंटल कॉलेज
राज्य में चिकित्सा विभाग से संबद्ध २६ सरकारी कॉलेज और ३ डेंटल कॉलेज हैं। इन अस्पतालों में रोजाना शहरी और ग्रामीण इलाकों से हजारों की संख्या में मरीज इलाज के लिए आते हैं। मरीजों से केस पेपर, विभिन्न जांच, सर्जिकल इलाज से सरकार को ९० करोड़ से अधिक का राजस्व मिल रहा है।

अन्य समाचार