मुख्यपृष्ठस्तंभदिल्ली से : नशे की वजह से हो रहीं क्राइम की घटनाएं

दिल्ली से : नशे की वजह से हो रहीं क्राइम की घटनाएं

योगेश कुमार सोनी

बीते मंगलवार दिल्ली के वेलकम इलाके में लूट का विरोध करने पर बीच सड़क पर एक किशोर ने चाकू से ताबड़तोड़ वार कर एक नाबालिग की हत्या कर दी। हत्या करके नाबालिग की जेब से ३५० रुपए लूटकर ले गया। मृतक की पहचान १७ वर्षीय यूसुफ के रूप में हुई है। हत्याकांड का सीसीटीवी फुटेज गुरुवार को सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ, जिसने भी वीडियो देखा उसके रोंगटे खड़े हो गए। घटना के बाद से दिल्ली के लोग भी बुरी तरह दहशत में हैं। घटनास्थल वाले इलाके में सन्नाटा पसरा है। मीडिया के वहां पहुंचने पर ज्यादातर लोगों ने अपने-अपने घरों के दरवाजे बंद ही रखे और कोई कुछ भी कहने व बताने को तैयार नहीं। यदि वीडियो नहीं होता तो आरोपी सबूतों के अभाव में कभी पकड़ा नहीं जाता। फिर भी कड़ी मशक्कत के बाद बड़ी मुश्किल से एक महिला ने बताया कि वारदात के समय आरोपी हंसता हुआ नाच रहा था और अजीब-सा व्यवहार कर रहा था। इस घटना ने एक बार फिर राष्ट्रीय राजधानी के क्राइम की कलई खोल दी।
इस मामले को लेकर विशेषज्ञों का मानना है कि दिल्ली में नशा खुलेआम बिकता है। अब युवा चरस, गांजा व अफीम के अलावा कई प्रकार का नशा करते हैं जो कहीं भी आराम से उपलब्ध है। उच्च अधिकारी तो इस पर लगाम कसते हैं लेकिन निचला स्टाफ नशे माफियाओं से मिलकर काम करवाता है। इस नशे की गिरफ्त से अब बच्चे व महिलाएं भी नहीं बचे। बताया जाता है कि जो भी व्यक्ति एक बार नशा कर लेता है वह इससे कभी नहीं निकल पाता और यदि उसके घरवाले, दोस्त या मिलनेवाले पैसे नहीं देते तो वह चोरी व क्राइम पर उतर जाता है जो इस घटना में भी देखा गया। दिल्ली के कुछ इलाकों में क्राइम इतना बढ़ चुका है। वहां पुलिस भी जाने से परहेज करती है, चूंकि वहां उनकी भी जान को खतरा रहता है। इसके अलावा इस बात में भी कोई दो राय नहीं है कि दिल्ली की जनसंख्या पर पुलिस बल उतना नहीं है जितने की आव्श्यक्ता है।
ऐसे मुद्दे पर कोई भी पुलिस अधिकारी बयान नहीं दे पाता लेकिन हकीकत स्पष्ट दिखती है। बहरहाल, दिल्ली का सीलमपुर,जाफराबाद व मुस्तफाबाद के अलावा तमाम ऐसे इलाके हैं, जहां स्थिति भयावह हो चुकी है। इन इलाकों में रहनेवाले युवा एक गलत दिशा की ओर चल पड़े हैं। मोबाइल व महंगी वस्तु छीनने के अलावा कई छोटी-बड़ी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं, जिससे जनता के अलावा पुलिस प्रशासन भी इनसे बहुत दुखी हो चुका है। माना जाता है कि क्राइम की वजह अधिकतर नशा माना जाता है, जो दिल्ली में खूब पनप रहा है और देश के युवा अपनी जिंदगी के साथ देश का भविष्य भी दांव पर लगा रहे हैं। यदि आज प्रशासन ने इसे खत्म नहीं किया तो आनेवाली स्थिति बहुत भयावह हो सकती है, जिसको नियंत्रित करना बेहद मुश्किल हो जाएगा। किसी की लत की वजह से अन्य का जीवन खत्म होना बेहद तकलीफ देता है। जिसका अपना गया है उसके दिल व आत्मा कितनी तड़प रही होगी, इसका अंदाजा लगाना बेहद मुश्किल काम है। इसलिए नशे व क्राइम पर अंकुश लगाना बेहद जरुरी है।
(लेखक वरिष्ठ पत्रकार व राजनीतिक मामलों के जानकार हैं।)

अन्य समाचार