मुख्यपृष्ठनए समाचारसोशल मीडिया पर भगोड़ा गोरी चलाता है आतंक की ‘कोचिंग’! ... पाकिस्तान...

सोशल मीडिया पर भगोड़ा गोरी चलाता है आतंक की ‘कोचिंग’! … पाकिस्तान में बैठकर हिंदुस्थान में भड़काता है जिहाद

सामना संवाददाता / मुंबई
दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने आईएसआई के मोस्ट वांटेड आतंकी शाहनवाज समेत ३ आतंकियों को गिरफ्तार कर खुलासा किया है कि इन आतंकियों का हैंडलर कोई और नहीं, बल्कि पाकिस्तान में बैठा आतंकी फरहतुल्ला गोरी है। देश से फरार होने के बाद पाकिस्तान में बैठकर गोरी ही आईएसआईएस के नाम पर हिंदुस्थान में नौजवानों को ऑनलाइन जिहाद की कोचिंग दे रहा है।
बता दें कि गोरी गुजरात में साल २००२ में अक्षरधाम मंदिर पर हुए हमले में शामिल था। २००२ में गोरी ने हैदराबाद में एसटीएफ ऑफिस में सुसाइड अटैक करवाया था। हैदराबाद का रहने वाला है गोरी। हिंदुस्थान सरकार ने गोरी को डिजिनेटेड टेररिस्ट घोषित किया हुआ है। हाल ही में गोरी की एक्टिविटी एजेंसियों ने ट्रैक की है। गोरी यूट्यूब पर अपनी तकरीरें डालता है, इसमें वह हिंदुस्थानी नौजवानों को भड़काने की कोशिश करता है। दुनियाभर में बदनाम पाकिस्तान और उसकी खुफिया एजेंसियों ने हिंदुस्थान में आतंक पैâलाने के नए तरीके अख्तियार किए हैं। पाकिस्तान में बैठे आतंकी ऑनलाइन और सोशल मीडिया के जरिए नौजवानों को कट्टर बना रहे हैं। उसके बाद आतंकी हमले के लिए तैयार करते हैं। उन्हें आईएसआईएस के आमिर की शपथ दिलवाई जाती है। वो इसलिए कि अगर हिंदुस्थान की एजेंसी उन्हें गिरफ्तार करे तो पाकिस्तान और आईएसआई का नाम सामने न आ पाए। दो दिन पहले ही गोरी ने एक वीडियो बयान जारी किया है। इसमें गोरी की आवाज और इंडियन मुजाहिद्दीन के आतंकियों की तस्वीरें हैं।

गोरी का वीडियो मैसेज
गोरी के वीडियो मैसेज से साफ है कि वह सोशल मीडिया पर आतंकी बनने की कोचिंग देता है। वीडियो में वह बोल रहा है कि इंडियन एजेंसी और इंडियन पुलिस में दम नहीं है, जिहाद करना है और पुलिस से बचना है। सोशल मीडिया का इस्तेमाल सिर्फ जानकारी के लिए करें। उसमें अपने विचार और जानकारी न डालें। हथियार तस्करों से हथियार खरीदते वक्त सावधानी बरतें। कई तो दोहरे एजेंट के तौर पर काम करते हैं। एक तरफ वो हथियार बेचते हैं, तो दूसरी तरफ वो एजेंसियों के एजेंट होते हैं।

पुणे के जंगलों में ब्लास्ट का टेस्ट!
पुणे आइसिस मॉडल में फरार तीन आतंकियों को दिल्ली स्पेशल सेल की मदद से गिरफ्तार किया गया है । गिरफ्तार आतंकियों से पूछताछ में कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं। पता चला है कि पुणे में आइसिस के इशारे पर प्लान बनाया गया था। हैरानी की बात है कि तीनों आतंकी इंजीनियर हैं। तीनों अपनी तालीम का इस्तेमाल देश को दहलाने के लिए करने वाले थे। इन आतंकियों के पास से बरामद दस्तावेज से पता चला है कि वे जो बम बना रहे थे, उसकी प्रैक्टिस के लिए उन्होंने पुणे के जंगलों को ब्लास्ट के टेस्ट के लिए चुना था। वहां पर ब्लास्ट भी किए गए। इससे साफ है कि आइसिस का ये मॉड्यूल हिंदुस्थान में आतंकियों को ट्रेनिंग देने से लेकर बम की टेस्टिंग भी कर रहा था।
एनआईए ने दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार आतंकियों के पास से कुछ नक्शे बरामद किए हैं। इन नक्शों में कुछ जगहों के ऊपर इन लोगों ने निशान लगा रखे थे। यानी इनके टारगेट पर वो ठिकाने थे। ये लोग बड़ा विस्फोट करने की साजिश रच रहे थे और पुलिस की मानें तो ये लोग करीब करीब अपने टारगेट के बेहद करीब भी थे।

अन्य समाचार