मुख्यपृष्ठनए समाचार‘गच्चा’ दे गए गडकरी! मोदी को बताया परिश्रम से बने पीएम!

‘गच्चा’ दे गए गडकरी! मोदी को बताया परिश्रम से बने पीएम!

  • सुबह की थी केंद्र सरकार की आलोचना
  • शाम को बदले सुर, कर दी तारीफ

सामना संवाददाता / मुंबई
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी अपने बेबाक बयानों के लिए काफी मशहूर हैं। वे केंद्र सरकार की नीतियों की आलोचना करने से बाज नहीं आते। अभी हाल ही में गडकरी ने मुंबई में केंद्र  पर निशाना साधते हुए कहा था कि सरकार समय पर निर्णय नहीं लेती। गडकरी ने सीधे तौर पर मोदी सरकार पर प्रहार किया था। मगर कुछ घंटों में ही गडकरी ‘गच्चा’ दे गए। मुंबई में सुबह ऐसा बयान देने के बाद शाम को गडकरी के सुर नागपुर में बदल गए। नागपुर में गडकरी ने कहा कि मोदी काफी परिश्रम से पीएम बने हैं।
गौरतलब है कि गत रविवार की सुबह गडकरी ने कहा था कि केंद्र  सरकार समय पर निर्णय नहीं लेती है, जिसके कारण समय पर काम नहीं होते हैं। यह सबसे बड़ी समस्या है। ऐसा कहते हुए उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था। इसके बाद रविवार की ही शाम में नागपुर के लक्ष्मणराव मानकर स्मृति संस्था की ओर से आयोजित एकल विद्यालय के शिक्षकों के तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का समापन रेशीमबाग स्मृति भवन सभागृह में संपन्न हुआ। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए गडकरी ने कहा कि अटलबिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, दीनदयाल उपाध्याय इन नेताओं सहित अनेक कार्यकर्ताओं के परिश्रम के कारण नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने। इसमें उनके परिश्रम का भी योगदान है। इस अवसर पर प्रमुख अतिथि के रूप में जितेंद्रनाथ महाराज, फिल्म अभिनेत्री निशीगंधा वाड, विजय कुमार गुप्ता और राजू हडप उपस्थित थे। भाजपा के उत्कर्ष का उल्लेख करते हुए गडकरी ने कहा कि कुछ वर्षों पहले मैं पहली बार पार्टी के कार्यक्रम के लिए बांद्रा (मुंबई) गया था। उस समय पार्टी की बहुत ही बुरी स्थिति थी। अटलजी भाषण के लिए उठे और वे डूबते सूरज को देखकर बोलने लगे। उन्होंने कहा कि मैं डूबते सूरज को देख रहा हूं, लेकिन यह अंधकार दूर होगा। सूर्य उगेगा और कमल खिलेगा, जिस समय अटलजी बोल रहे थे, उस समय उपस्थित सभी लोगों में यह विश्वास था कि यह स्थिति बदलेगी, जो आज प्रत्यक्ष रूप से दिखाई दे रही है।

अन्य समाचार