मुख्यपृष्ठखबरेंकचरे का होगा सफाया! एमबीएमसी खरीदेगी ५० मिनी कचरा गाड़ी

कचरे का होगा सफाया! एमबीएमसी खरीदेगी ५० मिनी कचरा गाड़ी

 शहर में रोज निकलता है ६०० मीट्रिक टन कचरा
 राज्य सरकार ने मंजूर किया `४५ करोड़ का अनुदान
विनोद मिश्र / भायंदर। मीरा-भायंदर शहर को स्वच्छ- सुंदर बनाने और सड़कों पर शून्य कचरा मुहिम के तहत मनपा ने ५० नई मिनी कचरा गाड़ी खरीदने का निर्णय लिया है। शहर में प्रतिदिन जमा होने वाले कचरे के निस्तारण के लिए मनपा आयुक्त दिलीप ढोले के निर्देशानुसार विभिन्न उपाय किए जा रहे हैं। इसके तहत शहर की स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।
बता दें कि शहर में प्रतिदिन करीब ५०० से ६०० मीट्रिक टन कचरा जमा होता है। राज्य सरकार के दिशा-निर्देश पर मनपा द्वारा घनकचरा व्यवस्थापन अधिनियम २०१६ के अनुसार गीले कचरे पर प्रक्रिया कर कंपोस्ट खाद तैयार की जा रही है। सूखे कचरे से रिफ्यूज्ड ड्राई फ्यूल बनाया जा रहा है। यह परियोजना भायंदर-पश्चिम के उत्तन धावगी-डोंगर में घनकचरा प्रकल्प में चल रही है। यहां पर प्रक्रिया के अभाव में जमा हुए करीब १४ मीट्रिक टन कचरे पर मनपा द्वारा बायोमाइनिंग पद्धति से प्रक्रिया की जा रही है। बायोमाइनिंग सहित शहर में जमा होनेवाले कचरे को प्रकल्प तक ढोने तथा अन्य संबंधित आवश्यक कार्यों के लिए राज्य सरकार ने मनपा को ४५ करोड़ रुपए का अनुदान मंजूर किया है। इसमें से मनपा ११७ कचरा गाड़ी और गली-मोहल्लों से कचरा ढोने के लिए ५० मिनी कचरा (घंटा गाड़ी) खरीदेगी। मनपा ने घनकचरा प्रकल्प के अलावा भी शहर के विभिन्न स्थानों पर १० से २० मीट्रिक टन कचरे से बायोमिथेनेशन उत्पादन परियोजना शुरू करने की प्रक्रिया शुरू की है। इसी प्रकार मनपा द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं कि जिन घरों या इमारतों, होटलों, रेस्टोरेंट में प्रतिदिन ५० किलो से अधिक गीला कचरा उत्पन्न हो रहा है, ऐसे स्थानों से मनपा द्वारा कचरा नहीं उठाकर उन कचरों का निस्तारण वहीं किया जा सके। साथ ही घरों में जमा होने वाले गीले कचरे से खाद बनाने के डिब्बों (कंपोस्ट बीन) का भी मनपा द्वारा मुफ्त वितरण किया जाएगा। शून्य कचरा मुहिम के तहत सड़कों पर कचरा जमा होने वाले स्थानों को भी अब मनपा बंद करेगी। इसके अलावा ५० मिनी कचरा गाड़ी को हर गली में घंटा गाड़ी के रूप में घुमाकर गीला, सूखा और घातक कचरा इकट्ठा किया जाएगा। इसके लिए प्रत्येक घंटा गाड़ी में तीन अलग-अलग कंपार्टमेंट बनाए जाएंगे और उसमें कचरे के वर्गीकरण के अनुसार कचरा एकत्र किया जाएगा। मिनी कचरा गाड़ियों द्वारा ले जाया गया कचरा मुंबई की तर्ज पर कचरा संग्रह केंद्र लाया जाएगा।
५० मिनी कचरा गाड़ी खरीदने के लिए एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार की जा रही है, जिसे राज्य सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। सरकार की मंजूरी के बाद गाड़ियों को खरीदने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इससे पूर्व प्रशासन शून्य कचरा मुहिम शुरू करने के लिए प्रयत्नशील है और इसके अनुरूप जन जागरूकता पैदा की जा रही है।
-रवि पवार, उपायुक्त (स्वास्थ्य विभाग)

अन्य समाचार