मुख्यपृष्ठसमाचारलहसुन में लगी ‘आग'! 

लहसुन में लगी ‘आग’! 

-५०० रुपए किलो तक पहुंची कीमत…बिगड़ रहा किचन का बजट

योगेंद्र सिंह ठाकुर / पालघर

लहसुन की कीमत में दिनोंदिन भारी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। कुछ दिन पहले तक १०० से १५० रुपए किलो तक बिकने वाला लहसुन आज ४५० से ५०० रुपए किलो में बिक रहा है। इससे आम आदमी के घर का बजट भी बिगड़ चुका है। साथ ही किसान भी अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। किसानों का मानना है कि लहसुन की पैदावार के दौरान बाजार में कीमत १० से ५० किलो रुपए तक रहती है। कई बार तो ऐसा होता है कि किसानों को लहसुन की पैदावार के बाद भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है। किसानों के मुताबिक, लहसुन की पैदावार इतनी है कि पिछले कुछ सालों में तो १० रुपए के आस-पास किलो के हिसाब से लहसुन बेच रहे थे और अगले महीने नई फसल भी आ जाएगी। बावजूद इसके लहसुन की कीमत बेलगाम है और इसका कारण कहीं न कहीं किल्लत को दर्शा कर मुनाफाखोरी करना है। किसानों ने ४० से ५० रुपए किलो की दर से व्यापारियों को लहसुन बेची थी, लेकिन अब लहसुन की कीमतें बेकाबू हो रही हैं। जानकारों का कहना है कि अगर ५० रुपए के हिसाब से भी अंदाजा लगाया जाए तो ट्रांसपोर्टेशन खर्च को जोड़ कर इसकी लागत ८० रुपए के आस-पास बैठती है, जिसे मुनाफा जोड़ कर १२५ से १५० रुपए किलो तक में बिकना चाहिए, लेकिन लहसुन की वास्तविक कीमत तिगुनी होकर साढ़े चार सौ से ५०० रुपए किलो तक हो गई है।
लहसुन व्यापारियों का कहना है कि मांग के अनुसार, लहसुन की आपूर्ति नहीं हो पा रही है, यही वजह है कि अभी लहसुन की बढ़ती कीमतों से न केवल खुदरा खरीदार बल्कि इसके थोक व्यापारी भी परेशान हैं। उन्हें उम्मीद है कि अगले महीने लहसुन की नई फसल आने के बाद इसमें कमी आएगी।

अन्य समाचार