मुख्यपृष्ठअपराधकर्ज लेकर प्रेमिका को दिया मोबाइल; कर्ज चुकाने के लिए रचा...

कर्ज लेकर प्रेमिका को दिया मोबाइल; कर्ज चुकाने के लिए रचा खुद के अपहरण का झूठा नाटक

  • अपने ही घरवालों से मांगी `२ लाख की फिरौती
  • पुलिस ने किया गिरफ्तार

सामना संवाददाता / उल्हासनगर
उल्हासनगर में प्रेमिका को कर्ज पर मोबाइल लेकर दिया था। कर्ज चुकाने के लिए खुद के अपहरण का झूठा नाटक रचकर परिजनों से फिरौती मंगनेवाले युवक को मध्यवर्ती पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार २२ वर्षीय युवक उल्हासनगर कैंप नंबर-तीन के शांति नगर परिसर का रहने वाला है।
शुक्रवार को उल्हासनगर पुलिस उपायुक्त प्रशांत मोहिते ने पत्रकारों को बताया कि १५ अगस्त की रात डेढ़ बजे के दरम्यान सोनू हरिराम भारती (३२) ने मध्यवर्ती पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराते हुए बताया था कि उनका लड़का १४ अगस्त को ८ बजे घर से चिकन लेने गया था। काफी समय बाद उनके मोबाइल पर फोन आया कि `विजय तुम्हारा कौन है और उसकी सलामती चाहते हो तो २ लाख रुपये दो, नहीं तो उसे मार दूंगा। जल्दी से पैसे का इंतजाम करो, नहीं तो उसे मार दूंगा। इस बारे में पुलिस को पता नहीं चलना चाहिए।’ इसे गंभीरता से लेते हुए मोबाइल लोकेशन की जांच में कर्नाटक में होने की जानकरी होने पर सहायक पुलिस निरीक्षक कोकरे व दीपक पाटील तुरंत कर्नाटक गए। वहीं एक टीम कल्याण स्टेशन पर सीसीटीवी पुटेज खंगालने में लग गई। फुटेज  में शिकायतकर्ता का बेटा अकेले स्टेशन पर घूमता हुआ दिखाई दिया, जिससे अपहरण की झूठी जानकरी दिए जाने का खुलासा हुआ और उसे पुलिस ने रायचूर रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार कर लिया। जांच के दौरान पाया गया कि आरोपी ने प्रेमिका को मोबाइल दिलाने व जन्मदिन मनाने के लिए कर्ज लिया था। उसे चुकाने के लिए अपहरण का झूठा नाटक रचा था और शराबियों को ५० रुपए देकर फिरौती के लिए अपने परिजनों को फोन करवाया था। इस झूठे अपहरण के मामले को सही समय पर हल करने के लिए वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक के मार्गदर्शन में पुलिस निरीक्षक सुहास आव्हाड, सहायक पुलिस निरीक्षक कोकरे, पुलिस हवलदार जाधव, पाटील व अन्य पुलिस कर्मियो ने कड़ी मेहनत की।

अन्य समाचार