मुख्यपृष्ठनए समाचार‘घाती’ सरकार ने स्वीकारा ...एसआरए फ्लैटों पर अपात्रों का कब्जा!

‘घाती’ सरकार ने स्वीकारा …एसआरए फ्लैटों पर अपात्रों का कब्जा!

सामना संवाददता / नागपुर

शिवसेना सदस्यों ने विधानसभा में सरकार को घेरा
फ्लैट बेचने की न्यूनतम सीमा १० से ५ साल करने की उठी मांग

महानगर मुंबई में झोपड़पट्टी पुनर्वसन योजना के तहत लगभग एक लाख फ्लैट बने हैं। इन फ्लैटों को बेचने की न्यूनतम समय सीमा १० साल होने की वजह से कई हजार लोग फ्लैट बेचने में असमर्थ हैं। दिनों-दिन इन फ्लैटों में अपात्र रहिवासियों की संख्या बढ़ती ही जा रही है, जिसे लेकर विधानसभा में शुक्रवार को विपक्ष की ओर से शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष के सदस्यों ने सरकार को घेरने का प्रयास किया, जिसके जवाब में राज्य के गृहनिर्माण मंत्री अतुल सावे ने स्वीकार किया कि मुंबई में एसआरए विभाग ने सर्वेक्षण कर पाया कि ८६,४२९ एसआरए फ्लैटों में से १०,९८३ फ्लैट में कई परिवार अनधिकृत रूप से रह रहे हैं। सावे ने कहा कि एसआरए फ्लैट को बेचने के लिए न्यूनतम समय सीमा कम करने का काम किया जाएगा। इसके लिए जल्द ही मुख्यमंत्री के पास एक प्रस्ताव दिया जाएगा।
सदन में शिवसेना के मुख्य प्रतोद सुनील प्रभु ने सदन में एसआरए परियोजना में फ्लैटों की बिक्री के लिए समय सीमा १० वर्ष से घटाकर ५ साल करने की मांग की। ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के तहत सुनील प्रभु ने बताया कि ६६ हजार से अधिक एसआरए फ्लैट अब भी हस्तांतरित नहीं हुए हैं। प्रभु ने कहा कि इस संबंध में कई बार मांग की गई, लेकिन सरकार सिर्फ आश्वासन ही देती है। मुंबई में एसआरए फ्लैटों की बिक्री के लिए न्यूनतम समय सीमा ५ वर्ष की जानी चाहिए। इस दौरान विधायक रवींद्र वायकर ने भी मुंबई में एसआरए फ्लैटों की दशा को लेकर सरकार का ध्यान खींचा। उन्होंने कहा कि एसआरए फ्लैट में रहनेवाले कई लोगों को किसी व्यक्तिगत कारणवश फ्लैट बेचकर जाना होता है तो एसआरए नियम के चलते वे फ्लैट बेच नहीं पाते हैं, इससे उन्हें नुकसान में ही सौदा करना होता है।
सरकार का जबदस्त घेराव करने के बाद गृहनिर्माण विभाग के मंत्री सावे ने स्वीकार किया कि नियम में बदलाव नहीं होने की वजह से एसआरए फ्लैटों में अतिक्रमण बढ़ रहा है अथवा अवैध रूप से रहनेवालों की संख्या बढ़ रही है। एसआरए फ्लैटों में रहनेवाले अनधिकृत व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई करने के संबंध में उच्च न्यायालय ने आदेश दिया था। आदेश का पालन कर ८६,४२९ फ्लैटों के सर्वेक्षण कराए गए, जिनमें से १०,९८३ फ्लैटों में अनधिकृत रूप से लोग रह रहे थे। सावे ने बताया कि ऐसे मामलों में बेदखली के नोटिस जारी किए गए हैं। उन्होंने आश्वस्त किया कि भविष्य में एसआरए की इमारतें उच्च गुणवत्ता वाली होंगी और बिक्री के लिए बनाई गई इमारतों और एसआरए इमारतों की गुणवत्ता समान होनी चाहिए। जो भी डेवलपर समय पर प्रोजेक्ट पूरा नहीं करेगा या किराया नहीं देगा, उसके खिलाफ बैठक कर निर्णय लिया जाएगा।

अन्य समाचार