मुख्यपृष्ठनए समाचारगोखले रोड ब्रिज की डेडलाइन फिर बढ़ी, समय पर पूरा करने में...

गोखले रोड ब्रिज की डेडलाइन फिर बढ़ी, समय पर पूरा करने में नाकामयाब हुई मनपा! ब्रिज का एक हिस्सा फरवरी के अंत में होगा शुरू

सामना संवाददाता / मुंबई
अंधेरी के गोखले ब्रिज को चालू करने को लेकर मुंबई महानगरपालिका ने एक बार फिर से नई तारीख की घोषणा की है। अंधेरी (पूर्व से पश्चिम) को जोड़नेवाली गोखले ब्रिज के एक लेन को अब फरवरी के अंत तक शुरू करने की घोषणा मनपा ने की है। इसके पहले १५ फरवरी तक गोखले ब्रिज का एक लेन को खोलने की घोषणा मनपा ने की थी। मनपा ने पांचवीं बार इस ब्रिज को शुरू करने की अपनी डेडलाइन को आगे बढ़ाया है। गोखले ब्रिज को बनाने में सबसे बड़ी अड़चन १४ मीटर लंबे गर्डर को लगाना था, जिसके लिए रात को रेलवे द्वारा विशेष ब्लॉक लेकर ही पूरा किया जा सकता था, जिसके कारण मनपा को बार-बार अपनी डेडलाइन बढ़ानी पड़ी। अंधेरी (पूर्व से पश्चिम) को जोड़नेवाला ब्रिज १९७५ में बनाया गया था। ३ जुलाई २०१८ को ब्रिज का एक हिस्सा गिरने के कारण दो लोगों की मृत्यु हो गई थी। रेलवे के हिस्से में आनेवाला भाग से खतरा है, ऐसी शिकायत आने पर लोगों के आवाजाही के लिए पुल का हिस्सा बंद कर दिया था, लेकिन ७ नवंबर २०२२ से गोखले रोड ब्रिज को गाड़ियों के आवागमन के लिए भी बंद कर दिया गया। इस पुल को गिराने का काम पश्चिम रेलवे द्वारा किया गया था, जबकि इसके पुनर्निर्माण का जिम्मा महानगरपालिका के ऊपर था। महानगरपालिका ने मई २०२३ तक पुल का निर्माण करके एक हिस्से को खोलने का वादा किया था, लेकिन विभिन्न कारणों से समय पर काम पूरा नहीं हो पाया और मनपा ने फिर से १५ फरवरी तक एक लेन को चालू करने का वादा किया था, जिसे पूरा करने में मनपा फिर से एक बार नाकामयाब साबित हुई।
मनपा आयुक्त ने गोखले ब्रिज को लेकर पालिका मुख्यालय में एक बैठक की थी, जिसमें मनपा के अधिकारियों के साथ-साथ विधायक अमित साटम, तांत्रिक सलाहगार और ठेकेदार भी उपस्थित थे। गोखले ब्रिज के कारण होनेवाली ट्रैफिक की समस्या को देखते हुए इस बैठक में पालिका आयुक्त ने संबंधित अधिकारियों को तांत्रिक अड़चन के कारण पुल को बनाने में अतिरिक्त समय लगने के बावजूद २५ फरवरी तक काम को पूरा करने का निर्देश दिया।

अन्य समाचार