मुख्यपृष्ठनए समाचारकैदियों के लिए खुशखबर...मिलेगा व्यक्तिगत कर्ज!

कैदियों के लिए खुशखबर…मिलेगा व्यक्तिगत कर्ज!

• देश की पहली अभिनव योजना
• प्रायोगिक तौर पर येरवडा जेल से होगी शुरुआत
सामना संवाददाता / मुंबई । राज्य की जेलों में बंद कैदियों के लिए राज्य की महाविकास आघाड़ी सरकार अभिनव योजना लेकर आ रही है। इस योजना के तहत जेल में बंद वैâदियों को पचास हजार रुपए तक व्यक्तिगत कर्ज (पर्सनल लोन) दिया जाएगा। यह कर्ज दि महाराष्ट्र स्टेट को-ऑप. बैंक से ५० हजार रुपए तक ७ प्रतिशत ब्याज की दर से उपलब्ध कराया जाएगा। इस योजना को प्रायोगिक तौर पर पुणे के येरवडा जेल से शुरू किया जाएगा। ‘सह्याद्रि’ अतिथि गृह में गृहमंत्री दिलीप वलसे-पाटील की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है। इस संदर्भ में शासन निर्णय भी जारी किया गया है। राज्य सरकार ने वैâदियों के जीवन स्तर में सुधार लाने और उनके पुनर्वसन के लिए यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। जेल में काम करते हुए अर्जित आय के आधार पर ऋण प्राप्त करने वाली यह देश की पहली अभिनव ऋण योजना भी होगी। इसके कारण एक कल्याणकारी योजना ठोस रूप में आ सकती है और लगभग १,०५५ वैâदी इस योजना से लाभान्वित हो सकते हैं, ऐसा गृहमंत्री ने कहा। कई वैâदी लंबी जेल की सजा काट रहे हैं। चूंकि इनमें से अधिकांश वैâदी परिवार के प्रमुख सदस्य हैं, ऐसे वैâदियों को लंबे समय तक जेल में रहना पड़ता है, जिससे उनका पूरा परिवार निराशा, अवसाद और अपराधबोध की स्थिति में आ जाता है। इससे परिवार में यह भावना भी पैदा होती है कि जो व्यक्ति जेल गया है वह अपने पारिवारिक कर्तव्यों के निर्वाह में विफल रहा है। ऐसी स्थिति में एक वैâदी को उसके परिवार की जरूरतों के लिए ऋण प्रदान करने से वैâदी के लिए परिवार की सहानुभूति और प्यार बढ़ाने में मदद मिलेगी और एक स्वस्थ पारिवारिक वातावरण बनाए रखने में भी मदद मिलेगी, ऐसा वलसे-पाटील ने कहा।

अन्य समाचार