मुख्यपृष्ठनए समाचारचांद से आई खुशखबरी ... चंद्रयान-३ लैंडर हुआ एक्टिव! ...साउथ पोल की और...

चांद से आई खुशखबरी … चंद्रयान-३ लैंडर हुआ एक्टिव! …साउथ पोल की और भी जानकारियां मिलेंगी

सामना संवाददाता / नई दिल्ली 
हिंदुस्थान के लिए चांद से खुशखबरी आई है। इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इसरो) के मुताबिक, चंद्रयान-३ विक्रम लैंडर ने चांद पर साउथ पोल के पास काम करना शुरू कर दिया है। चंद्रयान-३ लैंडर पर लगा लेजर रेट्रोरिफ्लेक्टर एरे (एलआरए) साउथ पोल पर काम कर रहा है। ऐसे में चांद से कुछ और जानकारियां भी आ सकती हैं। बता दें कि चंद्रयान-३ विक्रम लैंडर २३ अगस्त २०२३ को चंद्रमा की सतह पर साउथ पोल पर उतरा था। चंद्रयान-३ पर एलआरए एक छोटा एडिशन है। फिलहाल, साउथ पोल पर एक मात्र एलआरए है।
कई सालों तक काम करेगा ऑप्टिकल यंत्र
रिपोर्ट्स के अनुसार, नासा के एलआरए को चंद्रयान-३ विक्रम लैंडर पर एडजस्ट किया गया था, जो चांद की सतह पर लंबे समय तक चल सकता है। यह तमाम उपयुक्त उपकरणों के साथ परिक्रमा करने वाले अंतरिक्ष यान के जरिए सभी दिशाओं से लेजर की सुविधा प्रदान करता है। चंद्रमा की सतह पर दशकों तक चलने के लिए लगभग २० ग्राम का ऑप्टिकल यंत्र बनाया गया है।
मिशन को मिलेगा लाभ 
इसरो ने कहा है कि चंद्रयान-३ के विक्रम लैंडर पर नासा का एलआर लॉगटर्म जियोडेटिक स्टेशन और चांद की सतह पर एक स्पॉट मार्कर के रूम में काम करता रहेगा। इससे आगे चलकर मिशन चंद्रयान को लाभ मिलेगा।

चंद्रमा की सही लोकेशन का पता चलेगा
इसरो ने जानकारी देते हुए बताया कि अमेरिकन स्पेस एजेंसी नासा के लूनर रिकॉनिसेंस ऑर्बिटर ने १२ दिसंबर २०२३ को परावर्तित संकेतों का पता लगाने के साथ ही इसका लेजर रेंज माप हासिल किया था। इसरो ने यह भी बताया कि ऑर्बिटर चंद्रयान-३ के पूर्व में बढ़ने के दौरान चंद्रमा की सही स्थिति का पता चल सकेगा।

अन्य समाचार