मुख्यपृष्ठनए समाचारसरकार इवेंट में है मशगूल महाराष्ट्र निवेश में पहुंचा चौथे क्रमांक पर!...

सरकार इवेंट में है मशगूल महाराष्ट्र निवेश में पहुंचा चौथे क्रमांक पर! -जयंत पाटील का दावा

सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र निवेश के मामले में चौथे स्थान पर पहुंच गया है। सरकार केवल इवेंट करने में मशगूल है। महाराष्ट्र की बिगड़ती आर्थिक हालात को काबू में करने के लिए सरकार के पास समय नहीं है। महाराष्ट्र में निवेश को आकर्षित करने में सरकार पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है। राज्य में बेरोजगारी की दर १०.९ तक पहुंच गई है, ऐसा दावा जयंत पाटील ने किया है।
हमारा मुद्दा चुनाव आयोग मानेगा
गुरुवार को चुनाव आयोग में हुई सुनवाई पर राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटील ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने विश्वास जताया कि चुनाव आयोग राकांपा के मुद्दों पर विचार करेगा। इस बारे में विस्तार से बात करते हुए जयंत पाटील ने कहा कि हमारे सभी मुद्दे कागज पर हैं।
३२ जिला अध्यक्षों के रूप में शपथ पत्र दिया गया है, जो लोग पार्टी से जुड़े नहीं हैं। उन्होंने कहा कि शपथ पत्र उन लोगों को दिया गया, जिन्हें यह नहीं पता था कि वे किसलिए शपथ पत्र दे रहे हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि मामला बेहद गंभीर है और चुनाव आयोग इसे ध्यान में रखेगा।
मराठा आरक्षण को लेकर सरकार में मतभेदों पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार में कुछ लोग ओबीसी को बदनाम कर रहे हैं, जबकि कुछ लोग मराठों को बदनाम कर रहे हैं। महाराष्ट्र सरकार को इस संदर्भ में एक साथ बैठकर उचित निर्णय लेने का आह्वान उन्होंने किया है। राकांपा किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना चाहती है, लेकिन वे मराठा आरक्षण के बारे में क्या करेंगे? ओबीसी के बारे में क्या करेंगे, धनगर समुदाय के आरक्षण का मुद्दा है। ऐसे महत्वपूर्ण मुद्दे पर दोनों उपमुख्यमंत्री कुछ नहीं बोलते हैं। उन्हें बोलना चाहिए, लेकिन वे बोलते नहीं है। यह उचित नहीं है, ऐसा भी पाटील ने कहा।

अन्य समाचार