मुख्यपृष्ठनए समाचारईडी के दुरुपयोग और महंगाई से सरकार घबराई : चार दिन पहले...

ईडी के दुरुपयोग और महंगाई से सरकार घबराई : चार दिन पहले ही संसद सत्र समाप्त

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ ईडी जैसी केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग और महंगाई के मुद्दे को लेकर विपक्ष द्वारा आवाज बुलंद करते ही केंद्र सरकार घबरा गई। इसलिए संसद के मानसून सत्र का समापन निर्धारित समय से चार दिन पहले ही कर दिया गया। १२ अगस्त को समाप्त होनेवाला सत्र सोमवार को ही संस्थगित कर दिया गया। राज्यसभा में निवर्तमान उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को विदाई दी गई। उसके बाद राज्यसभा और फिर लोकसभा का कामकाज अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने की घोषणा क्रमश: वेंकैया नायडू और ओम बिरला ने की।
मानसून सत्र की शुरुआत से ही विपक्ष ने ईडी, महंगाई और जीएसटी इन तीन मुद्दों को लेकर आक्रामक भूमिका अपनाई थी। संसद का मानसून सत्र शुरू रहते ही शिवसेना नेता व सांसद संजय राऊत पर बदले की भावना से ईडी ने कार्रवाई की, इसका तीव्र असर सत्र पर पड़ा। इस कार्रवाई के बाद विपक्ष बेहद ही आक्रामक दिखा।
लोकसभा में सात विधेयक पारित
पूरा अधिवेशन विरोधियों की आक्रामक भूमिका के कारण खूब चर्चा में रहा। इस बीच कुछ महत्वपूर्ण विधेयक पारित किए गए। राष्ट्रीय विद्युत अनुसंधान विधेयक सहित सात विधेयकों को लोकसभा में मंजूरी दिए जाने की जानकारी लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सत्र के समापन के दौरान सदन को दी।

अन्य समाचार