मुख्यपृष्ठनए समाचारउत्तर भारतीयों में भाजपा के प्रति भारी रोष : गाली खाकर वोट...

उत्तर भारतीयों में भाजपा के प्रति भारी रोष : गाली खाकर वोट नहीं देंगे! …भाजपा पदाधिकारी द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी पर भड़का हिंदी भाषी समुदाय

सामना संवाददाता / मुंबई
भाजपा में वैसे तो समय-समय पर उत्तर भारतीयों का अपमान होता ही रहता है लेकिन अब भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने उत्तर भारतीयों की औकात बताते हुए उन्हें गाली दी है। इससे उत्तर भारतीयों में रोष छा गया है। अब एक स्वर में उत्तर भारतीयों का कहना है कि हम गाली खाकर भाजपा को वोट नहीं देंगे। एक भाजपा पदाधिकारी द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी पर हिंदी भाषी समुदाय भड़क गया है।
बता दें कि साकीनाका में एक मंदिर के उद्घाटन के दौरान भाजपा के वार्ड अध्यक्ष ने उत्तर भारतीयों की खुले रूप से औकात निकाली। यह सब सोशल मीडिया पर लाइव चल रहा था। इस वीडियो के वायरल होने के बाद उत्तर भारतीय समाज में भाजपा के प्रति भारी रोष फैल गया है। इसके बाद उत्तर भारतीय समुदाय में भारी नाराजगी है। उत्तर भारतीय लोगों ने इस मामले की साकीनाका पुलिस स्टेशन में लिखित शिकायत दी है और आपराधिक मामला दर्ज कर कार्रवाई करने की मांग की है। यह मामला २० जनवरी का है, साकीनाका के संघर्ष नगर में बिल्डिंग नंबर ९ के पास बने इच्छापूर्ति संकट मोचन महादेव मंदिर के उद्घाटन के दौरान स्थानीय सांसद के साथ भाजपा के पदाधिकारी आए थे। पूनम महाजन के साथ भाजपा का यह वरिष्ठ पदाधिकारी उपस्थित था। वार्ड क्रमांक १६१ के भाजपा अध्यक्ष प्रदीप बंड नाम से इसकी पहचान हुई है। इस उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान फेसबुक लाइव हो रहा था, जिसमें प्रदीप बंड उत्तर भारतीय लोगों को अभद्र टिप्पणी करता है कि भैया लोग अपनी औकात दिखाते हैं और हंसता है। इतना ही नहीं, उसने मंदिर के पुजारी को भी गलियों से संबोधित किया। उसने कहा कि पंडित भी … है। साकीनाका मंडल में भाजपा की पूर्व पदाधिकारी उषा मिश्रा के साथ साधना शर्मा और रोहित राय ने इस मामले को लेकर कड़ी नाराजगी जताते हुए पुलिस स्टेशन में शिकायत की। पंडित पुजारी और लगभग हजारों उत्तर भारतीय प्रदीप बंड के खिलाफ उतर गए और तत्काल प्रदीप पर आपराधिक मामला दर्ज कर दंडात्मक कार्रवाई करने की अपील की। इस मामले में यादव संघ मुंबई के अध्यक्ष अजय यादव ने भी कड़ी निंदा करते हुए कहा कि उत्तर भारतीयों के प्रति इस प्रकार की गाली कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। भाजपा अपने ऐसे बिगड़े और घृणित सोच वाले पदाधिकारियों पर कार्रवाई करे। सामाजिक कार्यकर्ता रोहित राय ने कहा कि भाजपा में जो वरिष्ठ नेता हैं, वह उत्तर भारतीय लोगों के प्रति क्या सोचते हैं, वह बंड के बयान से साबित हो रहा है। भैया लोग अपनी औकात दिखाते हैं यह कहना बहुत निंदनीय है। इसके लिए प्रदीप बंड को सजा मिलनी चाहिए। उषा मिश्रा ने कहा कि प्रदीप बंड ने अपने किए की माफी मांग ली है, ऐसे में उन्हें बहुत कुछ कहना उचित नहीं होगा। लेकिन सामाजिक दृष्टि से बंड का यह कहना बहुत ही गलत है। उन पर पार्टी की तरफ से कार्रवाई होनी चाहिए। वीडियो जारी होने के बाद, लोगों का आक्रोश देखते हुए प्रदीप बंड ने दूसरे दिन सोशल मीडिया पर अपनी गलती स्वीकारते हुए माफी मांगी और कहा कि मुझसे गलती हुई। यह बयान गलती से निकल गया। इसके लिए मैं माफी मांगता हूं।

अन्य समाचार