मुख्यपृष्ठखेलगुरुभाई हैं न

गुरुभाई हैं न

सबसे जबरदस्त ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या के होने से भारतीय टीम को कॉन्फिडेंस मिलता है। वैसे पंड्या जितने धाकड़ हैं, उतने ही इंजर्ड रहने वाले खिलाड़ी भी हैं। इंजरी ही तो है, जिसने उन्हें अफगानिस्तान के खिलाफ टी-२० सीरीज से दूर किए रखा। पंड्या की ये इंजरी उन्हीं के गुरुभाई के लिए वरदान बन गई। अफगानिस्तान के खिलाफ मौका मिला, जिसे उनके गुरुभाई ने दोनों हाथों से लपका और अपने दमदार परफॉर्मेंस से भारत को ये भरोसा दिया कि हार्दिक नहीं तो वो हैं न। अब आप सोच रहे होंगे कि ये कौन हैं और गुरुभाई वैâसे हो गए? तो बता दें कि हार्दिक पंड्या और शिवम दुबे दोनों गुरु भाई हैं। इनके बीच गुरुभाई का कनेक्शन जाकर जुड़ता है एमएस धोनी से। दरअसल, इन दोनों का मानना है कि वो आज जहां हैं, क्रिकेट में उन्होंने जो कुछ भी सीखा है, उसमें महेंद्र सिंह धोनी का बड़ा योगदान है। हार्दिक और धोनी की बॉन्डिंग तो वैसे भी जगजाहिर है। धोनी जब इंटरनेशनल क्रिकेट में सक्रिय थे, तब उन्होंने उनसे कप्तानी और अपने खेल की काफी बारीकियां सीखी थी। ठीक ऐसा ही शिवम दुबे के साथ भी है। उन्हें आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से खेलने का सबसे बड़ा फायदा यही हुआ कि धोनी से सीखने को मिला। यही वजह है कि चाहे मोहाली हो या इंदौर, टीम इंडिया के लिए मैच खत्म करने के बाद वो धोनी का नाम लेना नहीं भूले।

अन्य समाचार