मुख्यपृष्ठअपराधसमय रहते नहीं पहुंची होती पुलिस तो हो जाता बड़ा हादसा... रिक्शा...

समय रहते नहीं पहुंची होती पुलिस तो हो जाता बड़ा हादसा… रिक्शा चालक ही बना हैवान

– पुलिस ने जान पर खेलकर महिला की बचाई इज्जत और जान
– वरिष्ठों ने किया बहादुर पुलिसवालों का सम्मान

सामना संवाददाता / कल्याण

डोंबिवली से एक चौकाने वाली घटना सामने आई है। शुक्रवार की रात मंदिर से दर्शन कर घर जा रही महिला का अपहरण कर उसे जान से मारने की धमकी देकर, उसके साथ बलात्कार करने की कोशिश करने वाले दो शातिर बदमाशों को मानपाड़ा पुलिस ने अपनी जान जोखिम में डालकर बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। पीड़ित महिला को बचाने के चक्कर में एक पुलिसकर्मी घायल भी हो गया है।
मिली जानकारी के अनुसार, डोंबिवली-पूर्व की रहने वाली एक महिला शुक्रवार की शाम खिड़कालेश्वर मंदिर का दर्शन करने के बाद घर जाने के लिए वह ऑटोरिक्शा पकड़ी, जिसमें पहले से ही एक यात्री सवार था। कुछ दूर जाने के बाद अचानक रिक्शाचालक ने रिक्शे को सुनसान जगह की तरफ मोड़ दिया। शक होने पर महिला ने शोर मचाने की कोशिश की, लेकिन बगल में बैठे यात्री ने हथियार दिखाकर महिला को डराया और उसे सुनसान ठिकाने पर ले गया। इस दौरान पेट्रोलिंग पर मौजूद मानपाड़ा थाने के बीट मार्शल सुधीर हसे और अतुल भोई की नजर ऑटोरिक्शा पर पड़ी। दोनों ने ऑटोरिक्शा का पीछा किया।
वहां पहुंचने के बाद पुलिसकर्मियों ने देखा कि दोनों आरोपी महिला की इज्जत लूटने की कोशिश कर रहे थे। जब उन्होंने महिला को बचाने की कोशिश किए तो दोनों आरोपियों ने पुलिसकर्मियों पर भी हमला कर दिया, जिसमें सुधीर हसे नामक पुलिसकर्मी घायल हो गया, लेकिन इसके बावजूद अपनी जान पर खेल कर पुलिसकर्मियों ने महिला की जान और आबरू की हिफाजत की और दोनों हैवानों के चंगुल से बचाते हुए दोनों को गिरफ्तार किया। दोनों आरोपी रिक्शाचालक हैं। पुलिस के मुताबिक, एक आरोपी आपराधिक प्रवृत्ति का व्यक्ति है। फिलहाल, दोनों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में हैं और उनसे आगे की पूछताछ की जा रही है। वहीं महिला की जान बचाने वाले पुलिसकर्मी सुधीर हसे और अतुल भोई को उनकी बहादुरी के लिए मानपाड़ा थाने के इंचार्ज सुरेश मदने और राम चोपडे (क्राइम पीआई) ने सम्मान किया और प्रशंसा की।

अन्य समाचार