मुख्यपृष्ठनए समाचारखुफिया इनपुट पर अमल और खुराफातियों पर नकेल कसते तो पंगा नहीं...

खुफिया इनपुट पर अमल और खुराफातियों पर नकेल कसते तो पंगा नहीं होता! …डर के साए में हैं मीरा-भायंदर के दुकानदार

दो दिनों में दोगुनी हुई हिंदू-मुस्लिम के बीच की खाई
संदीप पांडेय / मुंबई
मीरा-भायंदर के नयानगर में २२ जनवरी को हुए पंगे ने लोगों के दैनिक जीवन को काफी प्रभावित किया है। पंगे के कारण नयानगर वासी डर के साथ दिन गुजार रहे हैं। लोगों का कहना है कि प्रशासन अगर समय रहते खुफिया इनपुट और खुराफातियों पर नकेल कस देता तो यह पंगा नहीं होता।
मीरा-भायंदर में रोज अफवाहें पैâल रही हैं। पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे इन अफवाहों पर ध्यान न दें। सूत्र बताते हैं कि मीरा-भायंदर में गड़बड़ हो सकती है, इस तरह का इनपुट पुलिस को मिला था, मगर पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। नतीजतन, झड़प हो गए। बता दें कि झड़प के कारण मीरा-भायंदर में गत तीन दिनों से दो समुदायों के बीच की खाई बढ़ गई है। नयानगर में कल बुधवार को भी मंगलवार जैसा माहौल देखने को मिला। इलाके में सन्नाटा पसरा हुआ था। सड़कों पर यातायात सामान्य तौर की अपेक्षा में बहुत कम देखने को मिला। दुकानदार डर के साये में अपनी दुकानें खोले बैठे थे, जिनका एक हाथ अपने धंधे पर तो मानो दूसरा हाथ दुकान की शटर पर था। मीरा रोड रेलवे स्टेशन और नयानगर की सड़क पर जगह-जगह पुलिस की बैरिकेटिंग दिखाई दे रही थी। नयानगर के लोगों में इस बात का डर था कि अगले पल पता नहीं क्या होगा? मामला भले ही शांत दिख रहा था, लेकिन इस शांति के पीछे का पहलू कुछ और ही बता रहा था। स्थानीय लोगों का कहना था कि मामला भले ही शांत और सामान्य देखने को मिल रहा है, लेकिन नयानगर के लोगों के दिलों में अंदर ही अंदर कुछ और धधक रहा है। मंगलवार की शाम को भी इलाके में तोड़फोड़ की गई। इस दौरान पुलिस ने १३ आरोपियों को हिरासत में लिया था। एक स्थानीय निवासी ने बताया कि हम डर के साथ दिन गुजार रहे हैं, क्योंकि यहां कब क्या हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता है। यहां जो कुछ भी हो रहा है वह बहुत गलत हो रहा है। रविवार रात को कुछ उपद्रवियों ने भगवान राम की शोभा यात्रा पर पथराव करते हुए गाड़ियों में तोड़फोड़ की थी, साथ ही धार्मिक झंडे भी फाड़े थे। इस उपद्रव में कई लोगों समेत महिलाएं भी घायल हुई थीं। एक चाय विक्रेता ने कहा, ‘मैं डर के साथ यहां दुकान चला रहा हूं। अगर मुझे कुछ भी गड़बड़ दिखता है तो मैं खुद को बचाने के लिए कहीं छुपने की जगह ढूंढने लगता हूं। यह, माहौल सिर्फ नयानगर में ही है, बाकी सभी जगह चीजें सामान्य हैं। कल भी नयानगर में उपद्रवियों द्वारा तोड़फोड़ की गई है। ऐसा लग रहा है कि मामला सामने से भले ही ठीक दिख रहा हो, लेकिन अंदर-अंदर कुछ और ही चल रहा है।’ बता दें कि मंगलवार शाम को नयानगर में अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलाया गया। इसी इलाके में २२ जनवरी को अयोध्या में नवनिर्मित मंदिर में भगवान रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के दिन निकाली गई शोभा यात्रा पर पत्थरबाजी की गई थी, जिसमें एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया था वहीं कुछ अन्य लोग भी चोटिल हुए थे।

अन्य समाचार