मुख्यपृष्ठसमाचारहैंड ग्रेनेड उगल रहे तालाब! बरेली के बाद गाजीपुर में मिला हैंड...

हैंड ग्रेनेड उगल रहे तालाब! बरेली के बाद गाजीपुर में मिला हैंड ग्रेनेड, यूपी प्रशासन नहीं दे रहा ध्यान

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ। यूपी में योगी सरकार के एक महीने भी नहीं हुए कि राज्य में मानो हैंड ग्रेनेड की बहार आ गई है। योगी सरकार की नाकामी को छिपाने के लिए प्रशासन भी कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहा है। उत्तर प्रदेश के बरेली के सुभाषनगर थाना क्षेत्र के बदायूं रोड पर बुधवार दोपहर नाले की खुदाई के दौरान एक हैंड ग्रेनेड (बम) मिलने के बाद इलाके में हड़कंप मच गया। पुलिस ने बदायूं रोड के करगैना इलाके को कुछ देर को सील कर दिया। बरेली के बाद गाजीपुर में हैंड ग्रेनेड मिलने की घटना से यूपी प्रशासन में खलबली मच गई है। बुधवार को गाजीपुर जिले की गहमर गांव में सुबह मछली पकड़ रहे मछुआरों को तालाब में हैंड ग्रेनेड मिला। इस बात की जानकारी पैâलते ही मौके पर भीड़ जुट गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने हैंड ग्रेनेड को कब्जे में लेकर मामले की छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस इस बारे में भी कुछ भी बताने से कतरा रही है। जमानिया क्षेत्राधिकारी हितेंद्र कृष्ण ने बताया कि हैंड ग्रेनेड मिलने की सूचना विभागीय उच्चाधिकारियों को दी गई है। फिलहाल उसे सुरक्षित रखवा दिया गया है। हैंड ग्रेनेड मिलने के पीछे के कारणों की छानबीन की जा रही है।
योगी राज में बढ़ा खतरा
एसपी रामबदन सिंह ने बताया कि बरामद हैंड ग्रेनेड काफी पुराना और डमी लग रहा है। उसमें जंग लगा हुआ है। फिलहाल उसे गड्ढा खोदकर जमीन के अंदर रखा गया है। बम निरोधक दस्ते को सूचना दी गई है। मामले की छानबीन जारी है।बता दें कि इसी वर्ष १३ जुलाई २०२२ को कुशीनगर के हनुमानगंज क्षेत्र में हैंड ग्रेनेड मिलने की खबर मिली थी। १३ फरवरी २०२१ को आगरा के जैतपुर में हैंड ग्रेनेड बरामद हुआ था। जुलाई २०२० में कानपुर के बकेवर थाना क्षेत्र में सड़क किनारे हैंड ग्रेनेड मिला था। इस संदर्भ में पुलिस की गुप्तचर शाखा से जुड़े एक पूर्व अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों में मिले हैंड ग्रेनेड की अनदेखी किसी बड़े खतरे का संकेत हो सकता है। यूपी प्रशासन, खुफिया और सरकार को शीघ्र ही रोडमैप बना कर बड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।

अन्य समाचार