मुख्यपृष्ठनए समाचारमेहनतकश : इडली बेचकर, बेटे को एमबीए तक पढ़ाया!

मेहनतकश : इडली बेचकर, बेटे को एमबीए तक पढ़ाया!

रवीन्द्र मिश्रा

`हिम्मत-ए-मर्दा, मदद-ए-खुदा’, उर्दू की इस कहावत का मतलब होता है कि अगर इंसान में कुछ करने की हिम्मत है तो भगवान भी उसकी मदद करते हैं। इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है अंधेरी के आजाद नगर में रहनेवाले मेनन मामा ने। चेहरे पर हमेशा मुस्कान और जिंदादिल इंसान इस दुनिया में बहुत ही कम होते हैं, लेकिन ८२ वर्षीय कृष्णन कुट्टी मेनन ऐसे ही जिंदा दिल इंसान हैं, जिन्हें लोग प्यार से मेनन मामा के नाम से जानते हैं। केरल राज्य पालघाट जिले के कोलम मोड़ की राजस हाई स्कूल से ८वीं की पढ़ाई छोड़ मुंबई आए। घर की आर्थिक स्थिति ठीक न होने से उनके बहन-बहनोई मुंबई लाए। कुछ दिन पापड़ बेलने के बाद गोल्डन टोबैको में नौकरी लग गई। नौकरी के कुछ साल बाद शादी भी हो गई। दो बेटे हुए। बच्चे जब बड़े हुए तो उनको उच्च शिक्षा देना जरूरी था। बड़ा बेटा एमबीए की पढ़ाई करना चाहता था। उसकी पढ़ाई के लिए ज्यादा रुपयों की जरूरत थी। मैं जिस साइकिल से काम पर जाना था। ड्यूटी से आने के बाद उसी साइfिकल पर इडली बेचना शुरू किया। इस बात को मैंने अपने परिवार वालों तथा रिश्तेदारों तक को भी नहीं बताया। लोग समझते थे कि ये सामाजिक कार्यकर्ता हैं। किसी के काम के लिए गए होंगे। भगवान की कृपा से आज मेरा बड़ा बेटा एमबीए करके एक अच्छी कंपनी में कार्यरत हैं तथा छोटा बेटा कॉमर्स की पढ़ाई कर अच्छे जॉब पर है। दोनों बेटे अपने परिवार के साथ अलग रहते हैं लेकिन हमारा तथा हमारी धर्मपत्नी का हर तरह से ख्याल रखते हैं। बचपन से ही लोगों की सेवा में रुचि होने के चलते मुझे १९९७ में महाराष्ट्र का सर्वोच्च सेवा सम्मान तत्कालीन राज्यपाल माननीय श्री अलेक्जेंडर के हाथों प्राप्त हुआ। आज भगवान की कृपा से मैं दो मंदिरों का ट्रस्टी हूं। अंधेरी वीरा देसाई रोड के गणेश उत्सव समिति अंधेरी का राजा का फाउंडर सदस्य हूं। आज भी मेरे ही हाथ से बाप्पा की मूर्ति की स्थापना तथा विसर्जन होता है। इसलिए कहता हूं कि अगर इंसान के मन में कुछ करने की हिम्मत है तो उसे उस कार्य के लिए भगवान भी उसकी। मदद करते है। वाकई, कृष्णन कुट्टी मेनन की यह बात आज सभी के लिए प्रेरणादायी ही साबित होगी, जो अपनी जिंदगी में एक हार के कारण हताश और निराश हो जाते हैं और मेहनत करना छोड़ देते हैं। लेकिन कृष्णन मेनन तो सभी के लिए एक मिसाल बन गए हैं।

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा