मुख्यपृष्ठस्तंभमेहनतकश : मधुमेह के चलते नहीं खा सकते थे मिठाई... खोली...

मेहनतकश : मधुमेह के चलते नहीं खा सकते थे मिठाई… खोली ‘कॉन्शस मिठाईवाला’ दुकान!

अजय भट्टाचार्य

‘सोनी लिव’ पर प्रसारित हो रहे ‘मास्टर शेफ शो’ में भाग ले रहे ‘ए डायबिटिक शेफ’ के नाम से मशहूर और दशहरे के अवसर पर शुगर फ्री जलेबी को फाफड़ा के साथ पेश करनेवाले हर्ष केडिया सिर्फ १४ वर्ष के थे जब उन्हें टाइप १.५ मधुमेह का पता चला। लगातार यह बताए जाने के बाद कि मधुमेह के रोगी के रूप में उन्हें क्या नहीं खाना चाहिए, उन्होंने रसोई में समय बिताना शुरू कर दिया और ऐसे व्यंजन बनाए जो न केवल उनके स्वाद को पसंद आए, बल्कि लगाए गए खाद्य प्रतिबंधों के अनुरूप भी थे। हर बच्चे की तरह हर्ष को भी मिठाइयां बेहद पसंद थीं लेकिन मधुमेह की बीमारी के चलते वे मिठाई नहीं खा सकते थे।
अपने बचपन में हर्ष अपने एक दोस्त के घर जाते, जिसके माता-पिता काम के सिलसिले में घर से बाहर रहते और हर्ष अपने दोस्त को खुद खाना बनाते हुए देखते। बकौल हर्ष, ‘मुझे आश्चर्य होता था कि वह क्या कर रहा है। जब वह खाना बनाता था, तो मुझे लगता था कि मुझे भी इसकी मदद करनी चाहिए। इसलिए मैंने उसकी रसोई में हाथ बंटाया। मैंने सोचा कि यह सीखना अच्छा होगा कि चीजें कैसे बनती हैं और मुझमें धीरे-धीरे शुगरलेस मिठाई बनाने की इच्छा विकसित हुई। मेरे मामले में ‘आवश्यकता आविष्कार की जननी है’ वाली कहावत सच साबित हुई! मुझे बहुत-सी ऐसी चीजें ढूंढनी पड़ीं जिन्हें मैं खा सकता था या नहीं खा सकता था। बहुत सारी किताबें पढ़ीं, जिनसे मुझे मदद मिली। डायबिटीज फेडरेशन व बहुत सारे मधुमेह विशेषज्ञों से साक्षात्कार आदि के माध्यम से जानकारी साझा की।’ ए डायबिटिक शेफ और कॉन्शस मिठाईवाला की स्थापना कर उन्होंने अपनी यात्रा की शुरुआत की। इस यात्रा में उनके मित्र अरिहंत जैन और शिल्पा जैन भी साथ हो लिए और कॉन्शस मिठाईवाला नामक पहली मिठाई की दुकान खोली जो न केवल मुंबई, बल्कि भारत की पहली दुकान है जहां शुगर फ्री मिठाइयां मिलती हैं। हर्ष के माता-पिता सरोज व प्रमोद केडिया ने भी अपने बेटे के हर प्रकल्प में उसका उत्साहवर्धन किया। २६ साल के हर्ष ने २०१३ में ए डायबिटिक शेफ और इस वर्ष गणेशोत्सव के दरम्यान प्रसिद्ध शेफ संजीव कपूर की मौजूदगी में कॉन्शस मिठाईवाला शुगरलेस हलवाई की स्थापना की। हर्ष की कंपनी ए डायबिटिक शेफ चॉकलेट और स्प्रेड जैसी शून्य-चीनी कन्फेक्शनरी का उत्पादन और बिक्री करती है। दूसरी ओर, कॉन्शस मिठाईवाला, भारतीय मिठाइयां और कन्फेक्शनरी बेचनेवाली एक दुकान है। अपनी उद्यमशीलता यात्रा शुरू करने से पहले हर्ष ने फॉक्सी मोरोन, ले १५ पैटिसरी, मूच डिजाइन स्टूडियो, हाउस ऑफ केडी और ब्रांड एंड बटर के साथ काम किया था। वह दो बार फोर्ब्स इंडिया और एशिया ३० अंडर ३० विजेता हैं। केडिया मास्टर शेफ इंडिया के वर्तमान सीजन में भी प्रतियोगी हैं। भविष्य में हर्ष पूरे भारत में अपनी इस बिना शक्कर की मिठाई उपलब्ध कराने की योजना पर काम कर रहे हैं।

अन्य समाचार