मुख्यपृष्ठस्तंभमेहनतकश : कोरियोग्राफी को बनाया कमाई का जरिया

मेहनतकश : कोरियोग्राफी को बनाया कमाई का जरिया

आनंद श्रीवास्तव

ये मुंबई है और यहां सभी के सपने पूरे होते हैं। बशर्ते जीवन में सफल बनने और कुछ बड़ा कर दिखाने की हिम्मत होनी चाहिए। हिंदुस्थान की आर्थिक राजधानी मुंबई कभी किसी को भूखा नहीं रखती। यहां कड़ी मेहनत वालों की किस्मत जरूर बदलती है। देश के कोने-कोने से यहां आकर बसने वालों की तादाद काफी लंबी है। आज मेहनतकश में ऐसे ही एक व्यक्ति की मेहनत की दास्तां को हम पेश करने जा रहे हैं।
गोवा से आकर मुंबई बसे नाईक परिवार वालों ने तीन दशकों में आर्थिक रूप से तो ज्यादा कमाई नहीं की, लेकिन रोहित नाईक के डांस और कोरियोग्राफी से यह परिवार चेंबूर वाडवली गांव के घर-घर में चर्चित हो गया है। रोहित नाईक के कई म्यूजिक वीडियो बाजारों में खूब धूम मचा रहे हैं। यूट्यूब पर भी रोहित नाईक के डांस को पसंद किया जा रहा है।
बता दें कि रोहित नाईक के पिता कृष्णकांत नाईक का कारपेंटर का छोटा-सा व्यवसाय है। इसी से उनका घर चलता है। घर की परिस्थितियों के चलते सिर्फ एसएससी तक पढ़ाई करके छोड़ देनेवाले रोहित नाईक को इस बात का गम है, लेकिन खुशी भी है कि वह आज इतने कम उम्र में व्यस्त कोरियोग्राफी कर रहे हैं। अपने आपको एक्टर और कोरियोग्राफर के तौर पर स्थापित करने की जद्दोजहद में रोहित नाईक कई शो में काम कर चुके है, कई शो में जज की भूमिका निभा चुके हैं। मुंबई और नई मुंबई के स्कूल कॉलेजों के वार्षिकोत्सव कार्यक्रम में छात्रों को नृत्य की ट्रेनिंग दे रहे हैं। विविध कार्पोरेट कंपनियों के इवेंट के लोगों की रोहित नाईक पहली पसंद बन चुके हैं। काफी कम समय में उन्होंने यह मुकाम हासिल किया है। अंसार डांस अकादमी से उन्होंने सीख कर अपने करियर की शुरुआत की और आज खुद का ग्रुप बनाया है, साथ ही रोहित नाईक ने खुद की `लाइसेन्स-२ डांस’ अकेडमी शुरू की है। अपनी इस तरक्की का श्रेय वो अपने माता-पिता और स्ट्रगल के दौर के दोस्तों को देते हैं।
रोहित आज जिस भी मुकाम पर हैं उसके लिए वे अपने माता-पिता के अलावा अपने दोस्तों का भी शुक्रिया अदा करते हैं। उनका मानना है कि अगर मां-बाप का साथ और उनका आशीर्वाद रहे तो जीवन में सफलता हासिल करना किसी भी व्यक्ति के लिए बहुत आसान हो जाता है। मन में अगर विश्वास हो तो अपनी मंजिल को पाया जा सकता है। इस क्षेत्र में आनेवाले नए युवाओं के लिए रोहित का यही संदेश है कि आपमें अगर कोई हुनर है तो उसे तराशें और उचित शिक्षा लेकर अपने सपने को साकार करें। जुनून हो तो जीत जरूर मिलती है।

अन्य समाचार