मुख्यपृष्ठनए समाचारसफर में नशेड़ियों का सिरदर्द : रेलगाड़ियों में बढ़ रही हैं अराजकत...

सफर में नशेड़ियों का सिरदर्द : रेलगाड़ियों में बढ़ रही हैं अराजकत तत्वों की गतिविधियां …‘संपर्क क्रांति’ में शराबी ने किया पेशाब

सामना संवाददाता / झांसी
देश की लाइफ लाइन कही जानेवाली ट्रेनें अब सुरक्षित नहीं रह गई हैं। पटरी पर दोड़ती ट्रेनें अराजक तत्वों का अड्डा बन गई हैं। ट्रेनों में, चोरी, लूट, डवैâती, से लेकर छेड़छाड़, बलात्कार और हत्या तक की घटनाएं अब आम बन चुकी हैं। ट्रेन लंबी दूरी की ट्रेनों में भी इसी तरह की घटना घटने लगी है। उत्तर प्रदेश में झांसी के पास संपर्क क्रांति एक्सप्रेस ट्रेन में बुधवार की रात उस वक्त हड़कंप मच गया, जब नशे में धुत युवक ने बीएचयू के रिटायर वैज्ञानिक और उनकी पत्नी पर पेशाब कर दिया। उसकी इस करतूत को रोकने का प्रयास किया गया पर वह नहीं माना। झांसी वीरांगना लक्ष्मीबाई स्टेशन पर ट्रेन के पहुंचने पर आरपीएफ ने उसे गिरफ्तार कर लिया। मध्य प्रदेश के हरपालपुर निवासी वैज्ञानिक और उनकी ६० वर्षीय पत्नी उत्तर प्रदेश संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से नई दिल्ली जा रहे थे। दोनों कोच बी-३ की लोअर बर्थ ५७ व ६० पर सवार थे। इसी डिब्बे की साइड लोअर बर्थ पर कुतुब विहार साउथ-वेस्ट दिल्ली का रितेश भी सवार था, वह महोबा से हजरत निजामुद्दीन जा रहा था। ट्रेन झांसी पहुंचने वाली थी, इसी दौरान नशे में धुत रितेश सीट से उठा और बुजुर्ग दंपति पर पेशाब करने लगा। विरोध करने पर भी वह नहीं माना।
टीटीई ने भी नहीं की मदद
हालांकि, इसके बाद दंपति ने शोर मचाया और टीटीई से शिकायत की पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। स्टेशन आने के बाद यात्रियों ने हो-हल्ला किया तो आरपीएफ और जीआरपी के जवान आए और रितेश को हिरासत में ले लिया। आरपीएफ इंस्पेक्टर रवींद्र कौशिक के मुताबिक आरोपी को पकड़ लिया गया है।

ठंडा बताकर मासूम को पिलाया तेजाब
चुरू। सादुलपुर सिधमुख थाना अंतर्गत गांव हासियावास में मंगलवार की रात एक छह वर्षीय बालक को ठंडे के बहाने जबरदस्ती तेजाब पिलाने का प्रयास किया गया। घटना के बाद पीड़ित बालक के परिजनों ने उसे उपचार के लिए हिसार अस्पताल में भर्ती कराया है। बालक बोलने की स्थिति में नहीं है। उसकी स्थिति गंभीर बताई जा रही है। थाना अधिकारी जय कुमार ने पत्रकारों को बताया कि हासियावास गांव निवासी बिमला पत्नी बाबूलाल नायक ने शिकायत दर्ज कराई है कि २ अक्टूबर २०२३ को उसका ६ वर्षीय पोता छोटे बच्चों के साथ खेलने जा रहा था। रास्ते में विकास पूनिया, विक्रम उर्फ मोटिया नायक दोनों ने उसे रोक कर जबरन ठंडा पिलाने लगे। पीड़िता के पोते ने इनकार किया तो दोनों आरोपियों ने उसके मुंह में जबरन बोतल डाल दी, जो कि तेजाब से भरी हुई थी। आरोपियों ने पीड़ित बच्चे को जाति सूचक गालियां भी दीं और कहा कि उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। वे हमको गांव से बाहर निकालकर रहेंगे। हम और पुलिस उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकते।

अन्य समाचार