मुख्यपृष्ठस्तंभसेहत का तड़का : स्वादिष्ट भोजन नहीं तो जीवन में स्वाद नहीं...

सेहत का तड़का : स्वादिष्ट भोजन नहीं तो जीवन में स्वाद नहीं …विजय सेतुपति डाइटिंग में नहीं करते हैं यकीन

एस.पी. यादव

कभी एक रिटेल स्टोर में सेल्समैन, एक फास्ट फूड प्वाइंट में वैâशियर और एक फोन बूथ ऑपरेटर का काम कर चुके अभिनेता, लेखक व निर्माता विजय सेतुपति आज अभिनय की दुनिया के चमकदार नक्षत्र हैं। विजय गुरुनाथ सेतुपति का जन्म १६ जनवरी १९७८ को तमिलनाडु के राजपालयम कस्बे में हुआ। अपनी तीन दशक की अभिनय यात्रा में विजय सेतुपति तमिल फिल्मों के अलावा तेलुगु, मलयालम और हिंदी फिल्मों में नजर आए हैं। उनका मानना है कि फिटनेस मशीनी नहीं बल्कि स्वाभाविक होनी चाहिए।

छठी कक्षा की पढ़ाई के दौरान अपने परिवार के साथ राजपालयम से चेन्नई जा बसे विजय सेतुपति ने कोडंबक्कम के एमजीआर हायर सेकंडरी स्कूल से पढ़ाई करने के बाद थोरईपाकम के धनराज बैद जैन कॉलेज से बीकॉम किया। तीन साल तक दुबई में अकाउंटेंट की नौकरी करने के बाद २००३ में वे भारत लौटे और कारोबार जमाने के चक्कर में सिर पर लदे १० लाख रुपए का कर्ज लौटाने के चक्कर में फिल्मों में काम करने का मन बनाया। २००६ में तमिल फिल्म ‘पुद्दुपेट्टई’ से उन्होंने अपनी अभिनय यात्रा शुरू की। हालांकि, इससे पहले वे १९९६ में तमिल फिल्म ‘लव बर्ड्स’ में एक छोटा-सा रोल निभा चुके थे। २००९ में रिलीज हुई ‘वेन्निला कबड्डी कुझु’ फिल्म ने उन्हें बतौर अभिनेता स्थापित किया। अब तक ५० से अधिक फिल्मों में अभिनय कर चुके और राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित हो चुके विजय सेतुपति २०२३ में हिंदी फिल्म ‘मुंबईकर’ और ‘जवान’ में नजर आए। उनकी वेबसीरिज ‘फर्जी’ पहले ही लोकप्रियता के झंडे गाड़ चुकी है। अब वह वैâटरीना वैâफ के साथ हिंदी और तमिल में एक साथ रिलीज हो रही ‘मेरी क्रिसमस’ में नजर आएंगे।
स्वाभाविक रूप से फिट रहने में यकीन
विजय सेतुपति का फिटनेस का अपना फलसफा है। वे जिम जाकर मशल्स बनाने की बजाय स्वाभाविक रूप से फिट रहने में यकीन करते हैं। उनके वर्कआउट में कार्डियो, स्ट्रेंथ ट्रेनिंग और योग का मिश्रण देखने को मिलता है। वैâलोरी बर्न करने और शरीर को शेप में रखने के लिए वे रोज सुबह आधा घंटा दौड़ लगाते हैं। शारीरिक शक्ति बरकरार रखने के लिए वेट ट्रेनिंग करते हैं। दंड-बैठक, बेंच-प्रेश और डेडलिफ्ट जैसी एक्सरसाइज करते हैं और शरीर की स्वाभाविक लचक बनाए रखने के लिए नियमित योग-अभ्यास करते हैं। बकौल विजय सेतुपति, ‘योग-अभ्यास मुझे शांत और एकाग्र बनाए रखने में मदद करता है। शारीरिक और मानसिक सेहत में संतुलन बनाए रखता है।’
प्रोटीन और कार्ब का संतुलन जरूरी
डाइटिंग में यकीन न करनेवाले विजय सेतुपति अपने भोजन में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स और फाइबर का संतुलन बनाए रखते हैं। प्रोटीन के लिए मसूर, चिकन, मछली और अंडे का सेवन करते हैं। कार्बोहाइड्रेट्स के लिए ब्राउन राइस, क्विनोआ और शकरकंद का सेवन करते हैं। विटामिन, खनिज और फाइबर के लिए ताजे फलों और सब्जियों का सेवन करते हैं। पर्याप्त पानी पीने, भरपूर नींद लेने को वह खास महत्व देते हैं।
हमारा भोजन हमारी पहचान
बकौल विजय सेतुपति, ‘हमारा भोजन हमारी पहचान होता है। पॉलिटिक्स और पेस्टिसाइड्स (कीटनाशक) ने हमारी खाद्य संस्कृति को बहुत नुकसान पहुंचाया है। स्वादिष्ट खाना नहीं हो तो जीवन में स्वाद नहीं होगा।’ विजय सेतुपति को इडली और नारियल चटनी, थोगयल (नारियल और दाल की चटनी), पोरियल (तली-भुनी सब्जियां), मुरुक्कू (चकली), बिरयानी, पुली कुजांबु (करी) और बिरयानी बेहद पसंद है। उन्हें पास्ता भी पसंद है।

सेतुपति की पसंदीदा पत्तागोभी पोरियल की रेसिपी
सामग्री: एक पत्ता गोभी, एक चम्मच चना दाल, एक चम्मच उड़द दाल, एक चम्मच राई दाना, एक टहनी कढ़ी पत्ता, एक हरी मिर्च, एक चुटकी हल्दी पाउडर, एक चम्मच तेल, आधा कटोरी बारीक कटा हरा धनिया, तीन चम्मच कद्दूकस किया नारियल और स्वादानुसार नमक।
विधि: सबसे पहले पत्तागोभी को अच्छी तरह साफ करके बारीक काट लें। इसके बाद हरी मिर्च और धनिया को साफ करके काट लें। फिर एक पैन में तेल को गर्म करके उसमें राई दाना, चना दाल और उड़द की दाल एक-एक करके डालें। हल्का भून लेने के बाद इसमें कटी हुई हरी मिर्च, पत्तागोभी और धनिया पत्ती डालें। हल्की आंच पर एक मिनट के लिए इसे चलाते रहें। इसके बाद इसमें हल्दी पाउडर और नमक डालें। दोबारा एक मिनट के लिए चलाते रहें। आखिर में इसके ऊपर कद्दूकस हुआ नारियल और धनिया पत्ती डालकर परोसें।
फायदे: इसकी एक खुराक से लगभग ७१ कैलोरी मिलती है, जिसमें १८ कैलोरी कार्बोहाइड्रेट्स, ७ कैलोरी प्रोटीन और ४६ कैलोरी वसा शामिल होता है। मैग्नीशियम, फोलेट, फाइबर, कैल्शियम और पोटेशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर पत्तागोभी पोरियल पाचनतंत्र को स्वस्थ रखने में कारगर है। यह ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने, हृदय को स्वस्थ रखने, आंखों की रोशनी तेज करने और गैस से छुटकारा दिलाने में मददगार है।

अन्य समाचार