मुख्यपृष्ठनए समाचारलोकल ट्रेनों की हेल्पलाइन भी हेल्पलेस!.. १५१२ पर नहीं करता कोई बात...

लोकल ट्रेनों की हेल्पलाइन भी हेल्पलेस!.. १५१२ पर नहीं करता कोई बात यात्रियों की सुरक्षा भगवान भरोसे… फटका गैंग का शिकार हुआ युवक,  गंवाए दोनों पैर  

सामना संवाददाता / ठाणे   

मुंबई की लाइफलाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेनों की यात्रा इस समय सुरक्षित नहीं रह गई है। आए दिन लोकल यात्री किसी न किसी आपराधिक तत्वों का शिकार बनते हैं। रेलवे की हेल्पलाइन १५१२ भी समय पर हेल्पलेस हो जाती है। हेल्पलाइन पर फोन करने के बाद काफी देर तक कतार में रहने की आवाज आती है, इसके बाद फोन अपने आप कट जाता है, तो ऐसे में इस हेल्पलाइन से हेल्प की उम्मीद वैâसे की जाए।
बता दें कि रेलवे ट्रैक पर सक्रिय फटका गैंग के कारण जगन नाम के युवक ने अपने दोनों पैर गवां दिए। जगन की शादी अभी तीन महीने पहले ही हुई थी। इस घटना को लेकर एक बार फिर से रेलवे की सुरक्षा को लेकर आक्रोश व्यक्त किया जा रहा है। फिलहाल, ठाणे रेलवे पुलिस मामला दर्ज कर जांच मे जुट गई है।
हेल्पलाइन पर उठे सवाल 
रेलवे की तरफ से एक हेल्पलाइन १५१२ बनाई गई है, लेकिन यह हेल्पलाइन खुद ही हेल्पलेस हो गई है। इस पर फोन करने के बाद शायद ही कोई बात करता है। यात्रियों ने बताया कि उन्होंने इस नंबर पर फोन किया, लेकिन घंटी बजती रही। किसी ने फोन नहीं उठाया। पूरी रिंग जाने के बाद फोन कट गया।
फटका गैंग पर कब लगेगी लगाम?
यह कोई पहली बार नहीं है कि जब फटका गैंग का शिकार कोई बना हो, इसके पहले भी फटका गैंग की वजह से यात्री की जान जाने तक की खबर सामने आ चुकी है। यात्रियों की मानें तो कुछ ऐसे स्पॉट होते हैं, जहां गर्दुल्ले छुपे रहते हैं और मोबाइल पर बात करनेवाले यात्री के हाथ पर प्रहार करते हैं। जीआरपी को सब पता होता है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होती है।
क्या है मामला?
बताया जाता है कि दादर में काम करनेवाले जगन हमेशा की तरह २२ मई की रात करीब ८:३० बजे दादर स्टेशन से कल्याण के लिए लोकल ट्रेन से अपने घर जा रहे थे। जब लोकल ट्रेन ठाणे-कलवा के बीच पहुंची तो दरवाजे पर खड़े जगन के हाथ से उसका मोबाइल छीनने के लिए एक गर्दुल्ले ने जगन के हाथ पर लकड़ी से हमला कर दिया, जिसके बाद जगन का संतुलन बिगड़ गया और वह नीचे गिर गया और ट्रेन की चपेट में आ गया। गंभीर रूप से घायल जगन को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसके दोनों पैर काटने पड़े। इस मामले में ठाणे रेलवे पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।

अन्य समाचार