मुख्यपृष्ठनए समाचारएनएचएआई निदेशक को `हाई' फटकार ... हाईवे पर पशुओं की रोकथाम के...

एनएचएआई निदेशक को `हाई’ फटकार … हाईवे पर पशुओं की रोकथाम के लिए क्या किया!

• हाईकोर्ट ने शपथ पत्र देकर बताने के लिए कहा
सामना संवाददाता / जयपुर
हाईवे पर आवारा पशुओं के चलते होने वाली परेशानी को लेकर हाई कोर्ट ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के परियोजना निदेशक को हाई फटकार लगाई है। कोर्ट ने निदेशक से शपथ पत्र पेश करके बताने को कहा है कि एनएचएआई ने अब तक हाईवे पर आवारा पशुओं की रोकथाम के लिए क्या कदम उठाए हैं। मुख्य न्यायाधीश एजी मसीह की खंडपीठ ने अधिवक्ता ताराचंद शर्मा की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिए। याचिकाकर्ता ने सुनवाई के दौरान पीआईएल में अन्य तथ्य पेश करने के लिए समय मांगा, जिस पर कोर्ट ने सुनवाई ४ अक्टूबर तक टालते हुए एनएचएआई से शपथ पत्र पेश करने के लिए कहा।
याचिका में कहा गया कि जयपुर से कोटा जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर आवारा पशुओं का जमावड़ा लगा रहता है, जिसके चलते यहां आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। हाईवे पर पशुओं को बचाने के चक्कर में कई बार हुई दुर्घटनाओं में लोगों की मौत भी हुई है। हाईवे दोनों तरफ से खुला होने के चलते यहां कई आवारा पशु आसानी से आ जाते हैं। इसी तरह अन्य हाईवे पर भी आवारा पशुओं के चलते आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। एनएचएआई की जिम्मेदारी है कि वह हाईवे पर यात्रियों की सुरक्षित और सुचारु यात्रा सुनिश्चित करे। इसके बावजूद भी एनएचएआई अपनी जिम्मेदारी पूरी करने में सफल नहीं हुई है।

अन्य समाचार