मुख्यपृष्ठनए समाचारड्रैगन का `गुरु' बनेगा हिंदुस्थान... बल्ला पकड़कर `छक्का' मारना सिखाएगा!

ड्रैगन का `गुरु’ बनेगा हिंदुस्थान… बल्ला पकड़कर `छक्का’ मारना सिखाएगा!

  • चीन पर चढ़ा क्रिकेट का बुखार
  • सिखाने की लगाई भारत से गुहार

एजेंसी / नई दिल्ली
चीन दुनिया की एक महाशक्ति है। उसे हर मामले में गुरु माना जाता है मतलब वह हर मामले में एडवांस है। पर हिंदुस्थान अब उसका `गुरु’ बनेगा और उसे `छक्का’ मारने सिखाएगा क्योंकि मामला क्रिकेट से जुड़ हुआ है। चीन को क्रिकेट का इतना बुखार चढ़ा हुआ है कि उसने हिंदुस्थान से सिखाने की गुहार लगाई है। बता दें कि हिंदुस्थान क्रिकेट में महाशक्ति है और अब इसका फायदा चीन को भी मिलेगा। बंगाल क्रिकेट एसोसिशन अब चीनी प्लेयर्स को क्रिकेट की ट्रेनिंग देने की तैयारी में है। इसके लिए चीन की ओर से ही प्रस्ताव दिया गया है। अगर एमओयू साइन हुआ तो चीनी कोच कोलकाता में ट्रेनिंग लेंगे।
हिंदुस्थान और चीन के बीच सीमा और आर्थिक मोर्चे पर तनाव की स्थिति बनी रहती है। इस बीच अब क्रिकेट के मैदान पर दोनों देश साथ आने की तैयारी में हैं। हिंदुस्थान अब चीन को क्रिकेट खेलना सिखाएगा और इसके लिए दोनों राजी भी हो गए हैं। चीन के काउंसिल जनरल द्वारा बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन को एक प्रस्ताव दिया गया है, जिसमें चीन में क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए मदद मांगी गई है। खबर के मुताबिक चीन के तीन अधिकारियों ने बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने क्रिकेट के बारे में जाना और अपने देश में उसे बढ़ावा देने के लिए मदद मांगी। अभिषेक डालमिया ने इस विजिट को लेकर कहा है कि चीनी प्रतिनिधिमंडल ने हमसे मुलाकात की है और चीन के चॉन्गक्विंग शहर में क्रिकेट सुविधाओं में मदद देने के लिए कहा है। हम क्रिकेट को बढ़ावा देना चाहते हैं, ऐसे में हमने उन्हें भरोसा दिया है। यह अच्छी बात है कि चीन भी क्रिकेट को पसंद कर रहा है।
चेयरमैन ने कहा कि हमने इससे पहले भूटान क्रिकेट, बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड की मदद की है। बांग्लादेश के साथ हम कई तरह के प्रोग्राम भी चलाते हैं, वह चाहते हैं कि नए खिलाड़ियों को अलग-अलग तरह के मौके मिल सकें। हमने कहा है कि उनके कोच हमारे यहां आकर ट्रेनिंग ले सकते हैं। चीन की ओर से बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन को जो प्रपोजल दिया गया है, उसमें चॉन्गक्विंग शहर में क्रिकेट सुविधाओं को बढ़ावा देने के लिए मदद मांगी गई है। इसके तहत एक एमओयू साइन किया जाएगा, जिसके बाद वहां से क्रिकेटर्स, कोच को ट्रेनिंग के लिए कोलकाता भेजा जाएगा।

अन्य समाचार